Wednesday, May 12, 2021
-->
pm-modi-discusses-situation-in-corona-with-chairman-of-european-commission-rkdsnt

कोरोना के हालात पर पीएम मोदी ने यूरोपीय आयोग की अध्यक्ष से की चर्चा 

  • Updated on 5/3/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूरोपीय आयोग की अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन ने सोमवार को भारत और यूरोपीय संघ में कोविड-19 की ताजा स्थिति पर विचार विमर्श किया। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि इस दौरान भारत में चल रही कोविड-19 की दूसरी लहर से निपटने के प्रयासों के बारे में दोनों नेताओं के बीच चर्चा हुई। 

चुनाव आयोग की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हाई कोर्ट का मनोबल नहीं गिरा सकते

प्रधानमंत्री मोदी ने कोविड-19 के खिलाफ भारत की जंग में त्वरित सहयोग करने के लिए यूरोपीय संघ और उसके सदस्य देशों की प्रशंसा की। बयान में कहा गया कि दोनों नेताओं ने इस बात को रेखंकित किया कि पिछले साल जुलाई में हुए शिखर सम्मेलन के बाद भारत और यूरोपीय संघ के सामरिक सहयोग में नयी गति देखने को मिल रही है।   

भाजपा को लेकर प्रशांत किशोर का अनुमान सटीक बैठा, बावजूद इसके चुनावी रणनीतिकार का रोल छोड़ेंगे

 

दोनों नेता इस बात पर सहमत हुए कि आठ मई को डिजिटल माध्यम से भारत और यूरोपीय संघ के नेताओं के बीच होने वाली बैठक बहुआयामी संबंध को नयी गति देने का एक अहम मौका होगा। बयान में कहा गया है, ‘‘भारत-यूरोपीय संघ नेताओं की ईयू+27 प्रारूप में पहली बैठक हो रही है जो भारत-यूरोपीय संघ रणनीतिक साझेदारी को आगे मजबूती प्रदान करने के लिए दोनों पक्षों के साझा उद्देश्यों को दर्शाती है।’’ 

केजरीवाल सरकार ने शुरू किया 18 साल से अधिक आयु के लोगों के लिए टीकाकरण

बाद में प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा, ‘‘यूरोपीय संघ की प्रमुख उर्सुला वॉन डेर लेयेन से बात की और कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई में सहयोग और समर्थन देने के लिए उन्हें धन्यवाद किया। आठ मई को भारत और यूरोपीय संघ के नेताओं की बैठक के बारे में उनसे चर्चा की। मुझे पूरा भरोसा है कि यह बैठक हमारे सामरिक सहयोग को नयी गति देगी।’’ 

संयुक्त राष्ट्र कायक्रम ने मॉडर्ना के साथ किया करार 
मॉडर्ना एवं टीका प्रवर्तक गावी ने एक सौदे की घोषणा की जिसके तहत दवा कंपनी 2022 के आखिर तक निम्न एवं मध्यम आय वाले देशों में जरूरतमंद लोगों तक कोरोना वायरस टीका पहुंचाने के लिए संयुक्त राष्ट्र सर्मिथत कार्यक्रम के वास्ते 500 करोड़ खुराक प्रदान करेगी। सोमवार को घोषित किये गये इस अग्रिम खरीद समझौते से महज कुछ दिन पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कई सप्ताह की देरी के बाद मॉडर्ना टीके को आपात मंजूरी देने की घोषणा की थी। इससे संयुक्त राष्ट्र सर्मिथत कोवैक्स कार्यक्रम को प्रारंभ करने का मार्ग प्रशस्त होगा। 

येचुरी बोले- सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को जारी रखने का मोदी सरकार का कदम हास्यास्पद 

लेकिन इस साल की आखिरी तिमाही से पहले टीकों की आपूर्ति शुरू नहीं हो पाएगी और सौदे के तहत खुराकों का बड़ा हिस्सा --46.6 करोड़ खुराक के अगले साल तक मिलने की योजना है। बाकी 3.4 करोड़ खुराक इस साल मिल जाने की उम्मीद है। सौदे की वित्तीय शर्तों का खुलासा नहीं किया गया है। कई विशेषज्ञों का कहना है कि कोविड-19 संकट अब तीक्ष्ण है, खासकर भारत में मामले अप्रत्याशित रूप से तेजी से बढ़ रहे हैं। मॉडर्ना टीका (कोरोना वायरस की) नयी किस्म, एक, जो भारत में फैल रहा है, से निपटने में अब तक के सबसे प्रभावी टीकों में एक समझा जा रहा है ।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.