Sunday, Nov 27, 2022
-->
pm-modi-greets-the-countrymen-on-the-occasion-of-jagannath-rath-yatra-prshnt

PM मोदी ने जगन्नाथ रथ यात्रा के अवसर पर देशवासियों को दी शुभकामनाएं

  • Updated on 7/12/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा के अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं दीं और सभी के स्वस्थ जीवन व समृद्धि की कामना की। उन्होंने ट्वीट किया, रथ यात्रा के विशेष अवसर पर सभी को शुभकामनाएं। हम भगवान जगन्नाथ को नमन करते हैं और कामना करते हैं कि वह सभी को स्वस्थ और समृद्ध जीवन का आशीर्वाद दें। जय जगन्नाथ। ओडि़शा के पुरी सहित देश के विभिन्न हिस्सों में आज भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा निकाली जा रही है। कोरोना वायरस के मद्देनजर पुरी में लगातार दूसरी बार श्रद्धालुओं की उपस्थिति के बिना ही रथ यात्रा निकाली जा रही है। इसके लिए जिला प्रशासन ने वहां रविवार रात आठ बजे से अगले दो दिन के लिए कफ्र्यू लगा दिया है। 

चंद्रशेखर बोले- BSP खो चुकी है वजूद, यूपी में आजाद समाज पार्टी है विकल्प   

144वीं रथयात्रा सोमवार सुबह से शुरू
बता दें कि गुजरात के अहमदाबाद शहर में भगवान जगन्नाथ की 144वीं रथयात्रा सोमवार सुबह शुरू हो गयी। हालांकि कोविड-19 के मद्देनजर लोगों को इसमें भाग लेने से रोकने के लिए यात्रा के मार्ग में लगाए गए कर्फ्यू के कारण इस बार की रथयात्रा को लेकर उत्सव की उमंग और भीड़ नदारद है। लगभग 100 ट्रकों, हाथियों, अखाड़ों और गायन मंडलियों के सामान्य काफिले के बजाय इस साल की यात्रा में केवल तीन रथ शामिल हैं, जिन्हें खलासी समुदाय के लगभग 100 युवा खींच रहे हैं। इसके अलावा चार से पांच अन्य वाहन शामिल हैं।     

BPCL निजीकरण और रसोई गैस की आपूर्ति को लेकर मोदी सरकार ले रही कानूनी राय

गृह मंत्री अमित शाह ने सुबह लगभग चार बजे मंदिर में दर्शन
राज्य के गृह मंत्री प्रदीपसिंह जडेजा ने पत्रकारों को बताया कि देवी-देवताओं के दर्शन की खातिर सड़कों पर लोगों की भीड़ जुटने से रोकने के लिए रथयात्रा के पूरे 19 किलोमीटर के मार्ग पर सुबह से दोपहर तक कर्फ्यू लगा दिया गया है।    भगवान जगन्नाथ, उनके भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा के रथों की यात्रा यहां जमालपुर क्षेत्र में स्थित 400 साल पुराने जगन्नाथ मंदिर से सुबह करीब सात बजे गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल द्वारा ‘पाहिंद विधि’ संपन्न करने के साथ शुरू हुई। यह विधि ‘‘रथों’’ का रास्ता साफ करने की प्रतीकात्मक रस्म है। देवी-देवताओं की मूॢतयों को रथों पर रखने से पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सुबह लगभग चार बजे मंदिर में दर्शन किया और ‘मंगला आरती’ में भाग लिया।     

Covid-19: देश में कोविड-19 के 37,154 नए मामले, 734 लोगों की मौत

12 घंटे में 19 किमी की दूरी तय करते हैं भगवान जगन्नाथ
ञशहर पुलिस के अनुसार, रथ यात्रा कुछ सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील क्षेत्रों से भी गुजरती है इसलिए किसी भी अप्रिय स्थिति से बचने के लिए मार्ग पर केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों की नौ कंपनियों सहित लगभग 23,000 सशस्त्र र्किमयों को तैनात किया गया है। हर साल रथयात्रा लगभग 12 घंटे में 19 किमी की दूरी तय कर भगवान जगन्नाथ मंदिर वापस पहुंचती है, जिसमें सरसपुर में एक घंटे का भोजन अवकाश भी शामिल है। हालांकि इस बार अधिकारियों ने सुनिश्चित किया है कि सरसपुर में बड़ी भीड़ जमा नहीं हो। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.