Wednesday, Jul 24, 2019

चमकी बुखार पर घिरे पीएम मोदी, यूजर्स ने कहा - बिहार के बच्चों के लिए बेड तक नहीं

  • Updated on 6/21/2019

नई दिल्ली/प्रियंका अग्रवाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को हाल ही में दुनिया का सबसे ताकतवर शख्स चुना गया है। इसमें कोई शक नहीं, पीएम मोदी की देश-विदेश में मजबूत छवि है। पीएम मोदी को भारत देश के हर एक व्यक्ति की फिक्र रहती है। जब भी कोई दुर्घटना होती है मोदी हमेशा तत्पर रहते हैं। लेकिन अब ऐसा क्या हुआ कि मोदी को बिहार में मर रहे बच्चों के माता-पिता की तकलीफ नहीं दिखाई दे रही।

पीएम मोदी ने ट्वीट कर अंगूठे में फ्रेक्चर के कारण विश्व कप से बाहर हुए क्रिकेटर शिखर धवन (Shikhar Dhawan) के जल्द ही स्वस्थ होने की कामना की। मोदी के ट्वीट करते ही बिहार (Bihar) में चमकी बुखार (Chamki Bukhar) के कहर से मर रहे बच्चों को लेकर लोगों ने उन्हें घेर लिया और कई तरह के आरोप लगाए। एक शख्स ने उनके ट्वीट पर कमेंट कर कहा, "सर शिखर धवन की चोट तो ठीक हो जाएगी लेकिन जो 115 बच्चे इलाज के अभाव में चले गये वो कभी लौट कर नहीं आएंगे। जरा दो शब्द उनके लिए भी लिख दीजिए..."

जानें, तीन तलाक और उससे जुड़ी अन्य कुप्रथाओं पर क्यों है विवाद

मोदी के धवन वाले ट्वीट पर यूजर ने कहा, "पीएम मोदी का धवन के लिए प्यार, लेकिन बिहार के मरते बच्चों के लिए बेड तक नहीं।"


एक यूजर ने लिखा, "आपने एक क्रिकेट के जख्मी होने पर झट से ट्वीट कर दिया लेकिन इन मासूम बच्चों के लिए एक बार भी कोई सहानुभूति नहीं दिखाई गई।" 


दूसरे यूजर ने मोदी से पूछा, "जब आयुष्मान योजना में 5 लाख तक का इलाज मुफ्त है.. तो फिर बिहार में चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों का इलाज बड़े निजी अस्पतालों में क्यूं नहीं हो रहा है?"

सोशल मीडिया के हर एक प्लेटफॉर्म पर प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना की जा रही है। फेसबुक पर एक शख्स ने लिखा, "माननीय प्रधानमंत्री मोदीजी, मुजफ्फरपुर भी आपके ही देश में है। आपके सवा सौ करोड़ देशवासियों में से सैकड़ों मासूम व्यवस्था की भेंट चढ़ गए। गिनती अभी भी जारी है। क्या ये खबर अब तक आपतक नहीं पहुंची है! #MuzaffarpurChildrenDeath"

 

साथ ही पीएम की योगा करती हुई फोटो पर तंज कसते हुए पोस्ट किया कि योगासन में इससे बेहतर आसन भला और क्या हो सकता है! लेकिन प्रधानमंत्री जी आप भले ही इस तस्वीर को न देखना चाहें .. मुजफ्फरपुर के इस मासूम की निर्जीव आंखें आपको निहार रही हैं।

विश्व में बजा PM मोदी का डंका, ट्रंप- पुतिन को पछाड़ बने दुनिया के सबसे ताकतवर शख्स


नेताओं की ओर से बयान आ रहा है कि बिहार में बच्चे लू के कारण मर रहे है जिसको लेकर सोशल मीडिया पर बहुत ही विरोध किया जा रहा है। लोग जानना चाहते है कि आखिर क्या वजह है जो सरकार इतनी बेबस है। यूजर्स फेसबुक, ट्विटर हर जगह एक ही सवाल कर रहे है कि इन मासूम बच्चों की मौत का जिम्मेदार कौन है?

Image result for चमकी बुखार

चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों का आंकड़ा पहुंचा 150 के पार, चपेट में आए 16 जिले

दरअसल, बिहार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सहयोगी जदयू की सरकार है। वहीं, राज्य के मुजफ्फरपुर में दिमागी बुखार (Brain Fever) यानी एक्यूट एन्सेफलाइटिस सिंड्रोम (AES) की वजह से अब तक 154 बच्चों की मौत हो चुकी है। जिसके बाद लोग नीतीश सरकार (Nitish Government) और बीजेपी (BJP) की लापरवाही को लेकर काफी नाराजगी जाहिर कर रहे हैं और अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.