Thursday, Feb 27, 2020
pm narendra modi rajnath singh tribute bala saheb thackeray birthday

#BalaSahebThackeray की जयंती पर PM मोदी समेत इन दिग्गज नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

  • Updated on 1/23/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। शिवसेना संस्थापक बालासाहेब ठाकरे (Bala Saheb Thackeray) की आज जंयती है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत कई दिग्गज नेता उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को बाल ठाकरे (Bal Thackeray) की जयंती पर श्रद्धांजलि दी और कहा कि उन्होंने जनता से जुड़े मुद्दों को उठाने से कभी संकोच नहीं किया।

शिव सेना प्रवक्ता का इंदिरा गांधी को लेकर बड़ा खुलासा, कहा- डॉन करीम लाला से जाती थीं मिलने

PM मोदी ने कही ये बात
प्रधानमंत्री ने ट्विटर पर कहा, "महान बालासाहेब ठाकरे को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि। साहसी और अदम्य, वह जन कल्याण के मुद्दों को उठाने से कभी नहीं हिचकिचाए।" मोदी ने कहा कि ठाकरे को हमेशा भारतीय लोकाचार और मूल्यों पर गर्व रहा और वह लाखों लोगों के लिए प्रेरणा बने रहेंगे।

B'day SPL: जानें, बाल ठाकरे से जुड़े वो किस्से जिसे लेकर रहे सुर्खियों में

राजनाथ सिंह ने किया याद
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने भी बाल ठाकरे की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा, "बाला साहेब ठाकरे देश के उन नेताओं में थे जो अपने पद के कारण नहीं बल्कि क़द के कारण लोगों के बीच माने जाते थे। उनकी निर्भीकता एवं स्पष्टवादिता के लोग कायल थे। जनता के मुद्दों की उन्हें खूब समझ थी, जिन्हें वे हमेशा उठाते थे। बाला साहेब की जयंती पर उन्हें मेरी भावपूर्ण श्रद्धांजलि।"

शिवसेना (Shiv Sena) ने भाजपा (BJP) के साथ दशकों पुराने गठबंधन को तोड़ते हुए हाल ही में राकांपा (NCP) और कांग्रेस (Congress) के समर्थन से महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार बनाई।

बालासाहेब ठाकरे नहीं होते तो हिंदुओं को भी नमाज पढ़नी पड़तीः शिवसेना

'महाराष्ट्र के गॉडफादर' के रूप में जाने थे बाल ठाकरे 
बाल ठाकरे को महाराष्ट्र का सबसे शक्तिशाली व्यक्ति माना जाता था। अक्सर उन्हें 'महाराष्ट्र के गॉडफादर' के रूप में भी संदर्भित किया गया था और उनके भक्त उन्हें हिंदू हिरदयसमरत (Emperor of the Hindu Heart) कहा करते थे। जब 1990 के दशक में शिवसेना ने महाराष्ट्र पर राजनीतिक नियंत्रण हासिल किया, तब उन्होंने मुंबई का नाम  बदलकर मुंबादेवी देवी के नाम पर रखा था। 

शिवसेना नेता संजय राउत ने प्रधानमंत्री को सराहा, बोले- दिल में है इज्जत

इस उपन्यास को महाराष्ट्र में कर दिया था प्रतिबंधित
जब सलमान रुश्दी ने अपने उपन्यास द मूर लास्ट सिघ (1995) में  जब ठाकरे के उपर व्यंग्य किया तो उनके उपन्यास को महाराष्ट्र में प्रतिबंधित कर दिया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.