Sunday, Oct 17, 2021
-->
PM to inaugurate 125th birth anniversary celebrations of ISKCON founder Tomorrow

इस्कॉन संस्थापक के 125वें जयंती समारोह का कल उद्घाटन करेंगे प्रधानमंत्री

  • Updated on 8/31/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इस्कॉन के संस्थापक आचार्य श्रील प्रभुपाद की साल भर चलने वाले 125वें जयंती समारोह का कल देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उद्घाटन करेंगे और उनके सम्मान में 125 रुपए का एक स्मारक चांदी का सिक्का भी जारी करेंगे। जिसके बाद विश्व के 60 से अधिक देशों के हजारों इस्कॉन सदस्यों, गणमान्य व्यक्तियों और आम जनता को प्रधानमंत्री संबोधित करेंगे।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी विशेष : अलौकिकता की अनुभूति गोवर्धन श्रीपीठम्

प्रभुपाद को आध्यात्मिक गुरु से मिला था अंग्रेजी भाषी दुनिया में कृष्ण की शिक्षा फैलाने का संदेश 
इस्कॉन के राष्ट्रीय संचार निदेशक ब्रजेंद्र नंदन दास ने मंगलवार को कहा कि कोरोना प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए आभासी रूप से ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। श्रील प्रभुपाद के नाम से विख्यात ए.सी. भक्तिवेदांत स्वामी भारत के सर्वमान्य व लोकप्रिय मार्गदर्शकों में से एक हैं। जिनका जन्म 1 सितम्बर 1896 को कलकत्ता में हुआ था। 1922 में आध्यात्मिक गुरु से मिलने पर उन्हें भगवान कृष्ण की शिक्षाओं को अंग्रेजी भाषी दुनिया में प्रसारित करने का निर्देश मिला।

श्रीभाद्रपद के इस अष्टमी पर है श्रीकृष्ण का 5248वां बर्थडे, जानें विस्तार से

12 सालों में विश्व में प्रभुपाद ने कर दी थी 108 मंदिरों की स्थापना 
70 वर्ष की आयु में उन्होंने एक मालवाहक जहाज पर सवार होकर संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए प्रस्थान किया। जिससे वह बोस्टन बंदरगाह पर उतरे। अगले 12 वर्षों में उन्होंने 108 मंदिरों की स्थापना, दर्जनों कृषि समुदायों, वैदिक गुरुकुल, शाकाहारी भोजनालय प्रारंभ करके संसार भर में आध्यात्मिक क्रांति ला दी। उन्होंने विश्व के सबसे बड़े शाकाहारी खाद्य सहायता कार्यक्रम के साथ-साथ 70 से अधिक पुस्तकों की रचना भी की।

comments

.
.
.
.
.