Tuesday, Dec 06, 2022
-->
poet munawar rana daughter sumaiya rana accused up police for dentension rkdsnt

शायर मुनव्वर राना की बेटी सुमैया ने यूपी पुलिस पर लगाया नजरबंद करने का आरोप

  • Updated on 9/9/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। मशहूर शायर मुनव्वर राना (Munawar Rana) की बेटी एवं सामाजिक कार्यकर्ता सुमैया राना (Sumaiya Rana) ने उन्हें ‘नजरबंद’ किए जाने का आरोप लगाया है। हालांकि पुलिस ने सुमैया को नजरबंद किए जाने के आरोपों को गलत करार दिया है। सुमैया की अगुवाई में प्रदेश में कोविड-19 (Covid 19) महामारी से निपटने के सरकारी प्रबंधों की नाकामी के खिलाफ मुख्यमंत्री आवास के पास स्थित कालिदास मार्ग चौराहे पर प्रदर्शन होना था। 

कंगना के बंगले में अवैध निर्माण ध्वस्त करने पर BJP ने साधा शिवसेना पर निशाना

सुमैया ने बताया कि कैसरबाग स्थित उनके घर के बाहर सोमवार रात से पुलिस का कड़ा पहरा बैठाकर उन्हें घर में नजरबंद कर रखा गया है। धरना प्रदर्शन की योजना अपनी जगह है लेकिन उनकी अपनी व्यक्तिगत जिंदगी भी है। उन्हें घर से बाहर नहीं निकलने दिया जा रहा है। यह उनके व्यक्तिगत अधिकारों का हनन है। उन्होंने बताया कि मंगलवार को लाल कुआं क्षेत्र स्थित उनके पिता मुनव्वर राना के घर के बाहर भी पुलिस तैनात की गई थी। 

चीनी सैनिकों ने पूर्वी लद्दाख में भारतीय ठिकाने के करीब आने की कोशिश की : सेना

सुमैया ने बताया कि पुलिस ने उन्हें नजरबंदी के सिलसिले में कोई आदेश या नोटिस नहीं दिखाया है। हालांकि मंगलवार को उन्हें पुलिस का एक नोटिस मिला है जिसमें कहा गया है कि कोविड-19 महामारी के मद्देनजर किसी भी तरह के धरना प्रदर्शन पर पाबंदी लगाई गई है। सुमैया ने बताया कि नोटिस में यह भी कहा गया है कि उच्च न्यायालय ने अपने एक आदेश में हजरतगंज तथा गौतम पल्ली इलाके में धरना प्रदर्शन को प्रतिबंधित कर दिया है। 

मोदी सरकार के ‘कुप्रबंधन’ की वजह से बढ़े कोरोना वायरस के मामले : राहुल गांधी

उन्होंने कहा कि उनकी अगुवाई में मंगलवार को प्रदेश में कोविड-19 महामारी से निपटने के सरकारी प्रबंधों की नाकामी के खिलाफ मुख्यमंत्री आवास के पास स्थित कालिदास मार्ग चौराहे पर प्रदर्शन होना था। उन्होंने कहा, ‘‘शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करना हमारा संवैधानिक अधिकार है जिसे सरकार छीनने की कोशिश कर रही है।’’ 

महाराष्ट्र : देवेंद्र फडणवीस को नहीं रास आई अभिनेत्री कंगना रनौत की टिप्पणी

सुमैया ने कहा कि बेहतर इंतजाम के सरकार के तमाम दावों के बावजूद राज्य में कोविड-19 महामारी से निपटने की व्यवस्थाएं चरमरा चुकी हैं। सरकार की नाकामियों के खिलाफ आवाज उठाना जनता का हक है। इस बीच, पुलिस ने सुमैया के खिलाफ कोई भी कार्रवाई किए जाने से इनकार किया है। कैसरबाग के थानाध्यक्ष दीनानाथ मिश्रा ने बताया कि पुलिस ने सुमैया को नजरबंद नहीं किया है। उन्होंने यह भी कहा कि सुमैया के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की गई है। 

चारधाम परियोजना पर सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार को दिया झटका

 

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.