Thursday, Aug 16, 2018

'आप' की पंजाब इकाई में फूट! असंतुष्ट विधायकों ने पंजाब इकाई को ‘स्वायत्त’ घोषित किया

  • Updated on 8/3/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सुखपाल सिंह खैरा के नेतृत्व में आप विधायकों के एक समूह ने आज पार्टी की पंजाब इकाई को ‘‘स्वायत्त’’ घोषित कर दिया और इसके वर्तमान सांगठनिक ढांचे को ‘‘भंग’’ कर दिया। लेकिन यहां एक सार्वजनिक बैठक के दौरान इस प्रस्ताव को स्वीकार करते हुए खैरा ने दिल्ली में नेतृत्व को एक हफ्ते का समय दिया कि उन्हें पंजाब में विधायक दल के नेता पद से हटाने के निर्णय की समीक्षा करे। 

पद से हटाए जाने के बाद भोलथ के विधायक की तरफ से बुलाए गए ‘‘कार्यकर्ताओं की बैठक’’ में 20 आप विधायकों में से आठ ने हिस्सा लिया। आप नेतृत्व ने पंजाब के सभी विधायकों को आज दिल्ली तलब कर संकेत दिए कि वे ‘‘पार्टी विरोधी’’ मुहिम के साथ नहीं हैं। उनमें से कम से कम 11 विधायक राजधानी में नेताओं से मिलने आए। 

स्वर्ण मंदिर की सामुदायिक रसोई में लगाया जाएगा बायोगैस संयंत्र

आप की राज्य इकाई के सह-अध्यक्ष ने कहा कि बठिंडा सम्मेलन में हिस्सा लेने वाले विधायक एवं अन्य नेताओं को ‘‘गुमराह’’ किया गया है और उम्मीद जताई कि पार्टी को मजबूत करने के लिए आने वाले दिनों में वे पार्टी लाइन का पालन करेंगे। उन्होंने बयान जारी कर कहा, ‘‘राज्य और केंद्रीय नेतृत्व से सलाह-मशविरा किए बगैर आम आदमी पार्टी के बैनर तले सम्मेलन का आयोजन करना अवैध है और नेताओं को भविष्य में इस तरह की गतिविधियों से बचना चाहिए।’’ 

मजीठिया पर चुप रहे खैहरा
इस कन्वैंशन के दौरान सुखपाल सिंह खैहरा ने कांग्रेस की मौजूदा सरकार और अकाली दल पर जमकर हमले बोले लेकिन 
चुनाव प्रचार के दौरान विक्रम सिंह मजीठिया को निशाना बनाने वाली पार्टी के नेता खैहरा इस कन्वैंशन के दौरान मजीठिया के मामले में कुछ नहीं बोले। हालांकि उन्होंने अकाली दल के गौरवमयी इतिहास का हवाला दिया और यह कहा कि अब अकाली दल पुरानी पार्टी जैसा नहीं रहा और पार्टी में कांग्रेस कल्चर आ गया है। पंजाब में सत्ताधारियों की पगड़ी के सिर्फ रंग बदलते हैं, राज्य के लिए कोई काम नहीं करना चाहता। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.