Friday, Jun 05, 2020

Live Updates: Unlock- Day 4

Last Updated: Thu Jun 04 2020 10:35 PM

corona virus

Total Cases

225,057

Recovered

107,991

Deaths

6,318

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA77,793
  • TAMIL NADU25,872
  • NEW DELHI23,645
  • GUJARAT18,609
  • RAJASTHAN9,720
  • UTTAR PRADESH9,237
  • MADHYA PRADESH8,762
  • WEST BENGAL6,508
  • BIHAR4,326
  • KARNATAKA4,063
  • ANDHRA PRADESH3,791
  • TELANGANA3,020
  • HARYANA2,954
  • JAMMU & KASHMIR2,857
  • ODISHA2,388
  • PUNJAB2,376
  • ASSAM1,831
  • KERALA1,495
  • UTTARAKHAND1,087
  • JHARKHAND764
  • CHHATTISGARH626
  • TRIPURA573
  • HIMACHAL PRADESH359
  • CHANDIGARH301
  • GOA126
  • MANIPUR108
  • PUDUCHERRY88
  • NAGALAND58
  • ARUNACHAL PRADESH37
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA33
  • MIZORAM17
  • DADRA AND NAGAR HAVELI11
  • DAMAN AND DIU2
  • SIKKIM2
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
politics intensified on video of rahul conversation with migrant laborers

प्रवासी मजदूरों से राहुल की बातचीत के वीडियो पर गरमाई सियासत, BJP और मायावती ने लगाए ये बड़े आरोप

  • Updated on 5/23/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड़ से सांसद राहुल गांधी की पैदल चल कर अपने घरों को जाते प्रवासी मजदूरों से बातचीत का विडियो सामने आने के बाद सियासत गरमा गई है। वीडियो में राहुल मजदूरों का दर्द सुनते हुए उनकी मदद का दिलासा देते दिख रहे हैं।

बेहाल मजदूर किसी तरह अपने घर तक पहुंचाने की मदद मांग रहे हैं। वीडियो को लेकर भाजपा ने कहा कि राहुल मजदूरों से मिलने का नाटक कर रहे हैं। वहीं बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि इन हालातों के लिए कांग्रेस ही जिम्मेदार है।

Video: हुकुम देव यादव ने पीएम मोदी के लिये किसे बताया खतरा, जानने के लिये सुनें दिलचस्प इंटरव्यू

वीडियो में मजदूरों का दर्द  सुनते दिखे राहुल गांधी
हरियाणा से अपने गांव झांसी (उत्तर प्रदेश) पैदल जा रहा मजदूरों का 14 सदस्यीय एक समूह 16 मई को जब सुखदेव विहार इलाके में फ्लाईओवर के नीचे बैठा सुस्ता रहा था, तभी अचानक राहुल गांधी उनके पास पहुंचे थे। राहुल ने वहीं फुटपाथ पर बैठकर उनसे बातचीत की। कांग्रेस ने इस बातचीत की 17 मिनट की डाक्यूमेंट्री बना कर शनिवार को जारी किया। इसकी शुरुआत प्रवासी मजदूरों के पलायन वाले दृश्यों से होती है। इसके बाद राहुल मजदूरों का दर्द उन्हीं से सुनते दिखते हैं।

हरियाणा की एक फैक्ट्री में काम करते थे मजदूर
महेश कुमार नाम का मजदूर उन्हें बता रहा है कि वह हरियाणा की एक फैक्ट्री में काम करते थे। 22 मार्च को कोरोना के चलते भारत बंद की घोषणा की गई। उन्हें लगा कि अगले दिन सामान्य रहेगा, लेकिन फिर अचानक लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई। दो-चार दिन का वक्त दिया गया होता तो वे सब अपने घरों को चले गए होते। अचानक लॉकडाउन की घोषणा के चलते वे जहां के तहां फंस गए। एक युवक बता रहा है कि बीते दो महीने से वे अपने आवास में कैद रहे। बाहर निकलने पर पुलिस और स्थानीय लोग डंडे मारते।

राहुल के मजदूरों संग बातचीत के वीडियो को मायावती ने बताया नाटक, कहा- सब कांग्रेस की देन

फैक्ट्री बंद होने से नहीं मिल रहा मजदूरोंं को काम
फैक्ट्री बंद है और उनके पास कोई काम नहीं होने से जो पैसा था, वह पूरा खर्च हो गया। अब खाने को राशन तक नहीं है। भूखे मरने की नौबत आ चुकी है। मकान का किराया 2500 रुपये कहां से दें। वहीं चार बार लॉकडाउन की अवधि बढ़ाई जा चुकी है और अभी भी स्थिति स्पष्ट नहीं। एक महिला कह रही है कि तीन दिन वह और उसका बच्चा भूखा-प्यासा हैं।

राहुल गांधी ने मदद का दिया आश्वासन 
राहुल पूछ रहे हैं कि अगर हालात सामान्य हो जाते हैं तो क्या वापस लौटोगे तो एक महिला भावुक होकर कहती दिख रही कि अब तो कभी नहीं लौटेंगे। अपने गांव में रह कर किसी तरह जी लेंगे। एक महिला बता रही है कि वे अपना 5000-5000 रुपये के बर्तन व अन्य सामान छोड़ आए हैं। सामान उठाकर पैदल चलना मुमकिन नहीं था। एक बच्चे की ओर इशारा करते हुए कहती है कि इसके चलते दो-तीन किलोमीटर चल कर सुस्ता लेते हैं फिर चलने लगते हैं। अब तक सौ-सवा सौ किलोमीटर चल चुके हैं। राहुल के एक सवाल पर मजदूर ने कहा कि दो महीनों में उन्हें कहीं से कोई मदद नहीं दी गई। जो 500-500 रुपये देने की बात कही गई, वह भी नहीं मिला। राहुल ने उनसे पूछा कि क्या मदद चाहिए, समूह की एक महिला कहती दिख रही है कि उन्हें किसी तरह घर पहुंचा दिया जाए। राहुल उन्हें मदद का आश्वासन देते हैं।

CycloneAmphan: प. बंगाल ने रेलवे बोर्ड को लिखा पत्र, कहा- 26 मई तक न भेजें कोई स्पेशल ट्रेन

इस वीडियो के सामने आने के बाद सियासत गरमा गई है। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने राहुल के वीडियो को पॉलिटिकल पॉल्यूशन बताया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकरा कोरोना से लड़ने के लिए जी जान से लही हुई है। कांग्रेस अगर इसमें मदद नहीं कर सकती तो कम से कम बाधा तो नहीं बने। वहीं नलिन कोहली ने कहा कि राहुल मजदूरों से मिलने का दिखावा कर रहे हैं। वहीं बसपा प्रमुख मायावती ने भी राहुल गांधी के वीडियो पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। एक के बाद एक ट्वीट कर मायावती ने कहा कि गरीब मजदूरों की आज जो हालत है, इसके लिए कांग्रेस ही जिम्मेदार है।

उन्होंने कहा कि आजादी के बाद लंबे समय तक कांग्रेस का ही शासन रहा, अगर लोगों के रोजी-रोटी की सही व्यवस्था की गई होती तो आज यह हालात न पैदा होते। राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा कि यह नाटक से ज्यादा कुछ नहीं। उन्होंने भाजपा पर भी हमला करते हुए कहा कि वह कांग्रेस के पदचिह्नों पर ही चल रही है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.