Friday, Jan 28, 2022
-->
poster-outside-chinese-embassy-dear-china-adopt-farooq-abdullah-kmbsnt

दिल्ली: चीनी दूतावास के बाहर लगा पोस्टर, 'डीयर चीन फारुक अब्दुल्ला को गोद ले लो'

  • Updated on 10/14/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 (Article 370) कि फिर से बहाली के लिए जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) के विवादित बयान को लेकर जमकर विवाद हो रहा है। अब्दुल्ला ने एक निजी चैनल से बातचीत में कहा था कि नियंत्रण रेखा पर जो भी तनाव के हालात बने हैं उसका जिम्मेदार केंद्र का वह फैसला है जिसमें जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म किया गया था।

अब्दुल्ला ने यह भी कहा था कि चीन (China) ने कभी भी अनुच्छेद 370 खत्म करने के फैसले का समर्थन नहीं किया है और हमें उम्मीद है कि इसे फिर से चीन की ही मदद से बहाल कराया जा सकेगा। अब्दुल्ला के बयान को लेकर मंगलवार को दिल्ली में चीनी दूतावास के बाहर हिंदू सेना ने प्रदर्शन किया।

हिंदू सेना ने इस दौरान यहां पोस्टर भी लगाए जिन पर लिखा था- डियर चीन फारूक अब्दुल्ला को गोद ले लो। दूसरी ओर अखिल भारत हिंदू महासभा ने भी फारूक अब्दुल्ला के बयान का कड़ा विरोध किया है। महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने मांग की है कि अब्दुल्लाह की संसद सदस्यता तत्काल समाप्त करके राष्ट्रों की धाराओं में केस दर्ज किया जाए। 

‘फारूक अब्दुल्ला जी यह क्या कर रहे हो’‘यह क्या हो रहा है’

अब्दुल्ला पर बीजेपी ने साधा निशाना
वहीं अब्दुल्ला के इस बयान पर बीजेपी (BJP) के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा (Sambit Patra) ने निशाना साधा। इसके साथ ही उन्होंने फारूक अब्दुल्ला के बयान को देश विरोधी भी बताया है। बीजेपी प्रवक्ता ने कहा, 'वर्तमान सांसद और पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला एक इंटरव्यू में कहते हैं कि अनुच्छेद 370 जिसे संवैधानिक तरीके से भारत के संसदीय पटल पर हटाया गया था, चीन की सहायता से दोबारा अनुच्छेद 370 को वापस लाया जाएगा। यह न केवल चिंतनीय है बल्कि दुखद है।'

370 मुद्दा: चीन के नाम पर भड़की BJP, कहा- फारूक, राहुल एक सिक्के के दो पहलू

चीन की मानसिकता को सही ठहरा रहे फारूक: BJP
संबित पात्रा ने कहा, 'फारूक अब्दुल्ला जी का मानना है कि आज अगर चीन आक्रामक हुआ है तो इसका एक ही कारण है कि अनुच्छेद 370 को हिन्दुस्तान ने हटाया। एक तरह से फारूक अब्दुल्ला ने अपने इंटरव्यू में चीन की विस्तारवादी मानसिकता को न्यायोचित ठहराते हैं। वहीं दूसरी और एक देशद्रोही कमेंट करते हैं कि भविष्य में हमें अगर मौका मिला तो हम चीन के साथ मिलकर अनुच्छेद 370 वापस लाएंगे।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.