Sunday, May 22, 2022
-->
prakash javadekar attack congress shashi tharoor 2010 tweet on farm laws pragnt

शशि थरूर के पुराने ट्वीट पर जावड़ेकर का पलटवार, कहा- किसानों को लेकर दोहरा सोचती है कांग्रेस

  • Updated on 2/6/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसान संगठनों का आंदोलन 75वें दिन भी जारी है। इस बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) के एक ट्वीट पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने हमला बोला है।

हरसिमरत कौर ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- आंदोलन को लेकर गलतफहमी में PM मोदी

प्रकाश जावड़ेकर का कांग्रेस पर हमला
जावड़ेकर ने शशि थरूर के 2010 वाले ट्वीट को शेयर करके कांग्रेस पर पलटवार करते हुए ट्वीट किया। उन्होंने लिखा, 'केंद्र के नए कृषि कानून पर कांग्रेस के पाखंड का एक और खुलासा। यहां 2010 में शशि थरूर द्वारा एक ट्वीट किया गया है... और अब कांग्रेस बिल्कुल विपरीत सोचती है।' 

थरूर ने क्या किया था ट्वीट?
शशि थरूर ने 23 जनवरी, 2010 को ट्वीट कर लिखा था, 'ऐसा लगता है कि हम हर साल अधिक गेहूं की बर्बादी करते हैं और भंडारण से वितरण को नुकसान होता है। इंट्रो ग्रेन स्टोरेज को स्थानांतरित करने के लिए ओरिनेट सेक्टर की वास्तविक आवश्यकता है।'

चक्काजाम की आड़ में बड़ी हिंसा की तैयारी! अजीत डोभाल ने संभाली कमान

सचिन- कोहली के ट्वीट पर भड़के शशि थरूर
इससे पहले शशि थरूर ने ट्वीट कर कहा था, 'भारत सरकार के लिए भारतीय शख्सियतों से पश्चिमी हस्तियों पर पलटवार कराना शर्मनाक है। भारत सरकार के अड़ियल और अलोकतांत्रितक बर्ताव से भारत की वैश्विक छवि को जो नुकसान पहुंचा है, उसकी भरपाई क्रिकेटरों के ट्वीट से नहीं हो सकती है।' दरअसल, भारत ने पॉप गायिका रिहाना और पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग जैसी वैश्विक हस्तियों द्वारा किसान आंदोलन का समर्थन किए जाने पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। बॉलीवुड के कई अभिनेताओं, किक्रेटरों और केंद्रीय मंत्रियों ने सरकार के रुख का समर्थन किया है।

विदेशी हस्तियों के प्रदर्शन का समर्थन करने में आपत्ति नहीं, रिहाना- ग्रेटा को नहीं जानता: टिकैत

लाल किले के पास जाने की किसी को अनुमति नहीं
सुरक्षा के इंतजामों का जायजा लेने के लिए उत्तरी जिले के उपायुक्त एंटो अल्फोंस ने लाल किले का दौरा किया। कुछ पुलिसवालों को सिविल ड्रेस में भी तैनात किया गया है। इसके साथ ही डंपर के ऊपर से चप्पे-चप्पे पर नजर रखने के लिए जवानों को निर्देश दिए गए हैं। किसी को भी इस समय लाल किले के आस-पास खड़े तक होने नहीं दिया जा रहा है। 

बंद हुए कई मेट्रो स्टेशन
इसके साथ ही आईटीओ पर भी सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद है। दिल्ली के विभिन्न इलाकों में भारी संख्या में पुलिसबल और अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है। वहीं दिल्ली की सीमाओं पर भी भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात है। एतहियात के लिए लाल किला, जामा मस्जिद, जनपथ और केंद्रीय सचिवालय के प्रवेश / निकास द्वार बंद कर दिए गए हैं। इसके साथ हीमंडी हाउस, ITO, दिल्ली गेट और विश्व विद्यालय मेट्रो स्टेशन के गेट भी बंद हैं। 

चक्का जाम: सुरक्षा घेरे में लाल किला! भारी संख्या में पुलिसबल तैनात, बैरिकेडिंग के ऊपर कंटीले तार

राष्ट्रीय और राज्य हाईवे पर यातायात रोका जाएगा
चक्का जाम के तहत देश में राष्ट्रीय और राज्य हाईवे पर यातायात रोका जाएगा। मोर्चा के डॉक्टर दर्शन पाल की ओर से चक्का जाम को लेकर दिशा-निर्देश भी जारी किए गए हैं। 3 घंटे के चक्का जाम में दोपहर 3:00 बजे वाहनों के हॉर्न 1 मिनट तक बजाए जाएंगे, इसके बाद जाम समाप्त कर दिया जाएगा।

तैयार है दिल्ली पुलिस
चक्काजाम के दौरान किसी तरह की अप्रिय घटना ना हो इसके लिए दिल्ली पुलिस ने चाक चौबंद तैयारी की है। रेलवे व मेट्रो भी पूरी तरह से सतर्क है। आवश्यकता पड़ने पर दिल्ली मेट्रो के प्रभावित स्टेशनों में प्रवेश और निकासी द्वार को बंद किया जा सकता है।

टिकैत ने बताया किसान आंदोलन को लंबा चलाने का नया फार्मूला, कही ये बात

आवश्यक सेवाओं को नहीं रोका जाएगा
राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों को दोपहर 12:00 से 3:00 बजे तक जाम किया जाएगा। इस दौरान इमरजेंसी और आवश्यक सेवाओं जैसे एंबुलेंस, स्कूल बस आदि सेवाओं को नहीं रोका जाएगा। चक्का जाम शांतिपूर्ण और अहिंसक होगा। मोर्चा की तरफ से निर्देश दिए गए हैं कि प्रदर्शनकारी चक्का जाम के दौरान किसी भी अधिकारी कर्मचारी या आम नागरिक के साथ संघर्ष ना करें।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.