Wednesday, Jun 29, 2022
-->
prakash karat cpim accuses bjp of creating communal division in kerala rkdsnt

प्रकाश करात ने BJP पर लगाया केरल में साम्प्रदायिक विभाजन पैदा करने का आरोप

  • Updated on 9/24/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के वरिष्ठ नेता प्रकाश करात ने भारतीय जनता पार्टी पर केरल में ‘इस्लामोफोबिया’ (इस्लाम का भय फैला कर) के माध्यम से साम्प्रदायिक विभाजन पैदा करने का आरोप लगाया। साथ ही, माकपा नेता ने कैथोलिक समुदाय के लोगों से भगवा पार्टी के असली चरित्र से वाकिफ होने की अपील की। 

यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर की पत्नी, बेटियों की जमानत याचिकाओं पर आदेश सुरक्षित

सायरो मालाबार कैथोलिक चर्च के पाला डायोसिस के बिशप, जोसेफ कल्लारनगट द्वारा दिये गये हालिया भाषण का जिक्र करते हुए करात ने कहा कि उनके (बिशप) आरोप ने केरल के समाज में चिंता पैदा करने के साथ ही गलत संदेश दिया है। बिशप ने दावा किया था कि गैर मुस्लिम समुदाय के युवाओं के खिलाफ ‘लव जिहाद और नार्कोटिक जिहाद’ का इस्तेमाल किया जा रहा है।  

PMO ने हाई कोर्ट को किया सूचित - पीएम केयर्स कोष सरकारी कोष नहीं है 

पार्टी के मुखपत्र देशाभिमानी में लिखे एक आलेख में माकपा पोलित ब्यूरो सदस्य ने कहा कि पूरे राजनीतिक परि²श्य में कथित जिहादी साजिश को नकारा गया है, लेकिन भाजपा बिशप के रुख के समर्थन में उतर आई और केंद्र सरकार से कथित जिहादियों की गतिविधियों के खिलाफ कानून बनाने की मांग कर डाली। उन्होंने लिखा है, ‘‘भाजपा को, मुस्लिम और ईसाई समुदायों के बीच विभाजन पैदा करने तथा इस्लामोफोबिया को हवा देने के लिए यह अच्छा अवसर प्रतीत हो रहा है।’’

असम में पुलिस गोली कांड को लेकर राहुल गांधी ने भाजपा सरकार पर बोला हमला

 करात ने कहा कि जहां तक केरल में कथित लव जिहाद की बात है, कुछ साल पहले 21 लोगों के अपने घर-परिवार छोडऩे और आतंकी संगठन आईएसआईएस-खुरासान में शामिल होने के लिए अफगानिस्तान जाने की घटना हुई थी। उनमें दो ईसाई युवतियां भी थी। उन्होंने कहा कि इन दो ईसाई युवतियों का वहां धर्मांतरण कराये जाने और उन्हें चरमपंथ द्वारा प्रभावित किये जाने पर कैथोलिक चर्च की चिंता उचित है।  

जिमखाना क्लब : सुप्रीम कोर्ट ने अगले आदेश तक CCTV फुटेज सुरक्षित रखने का दिया निर्देश

उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि, ये छिटपुट घटनाएं हैं।’’ करात ने आरोप लगाया कि भाजपा-आरएसएस गठजोड़ मुस्लिमों पर अपना निशाना साध रहा है और तरकीब लगा कर ईसाई बिशप को अपनी ओर करने की कोशिश कर रहा है। माकपा के वरिष्ठ नेता ने 1921 के मालाबार विद्रोह से जुड़े तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर पेश करने का भी संघ परिवार संगठनों पर आरोप लगाया।  

राकेश अस्थाना की नियुक्ति : कोर्ट में याचिका को लेकर प्रशांत भूषण के आरोप सही निकले


 

comments

.
.
.
.
.