Saturday, Dec 07, 2019
prashant bhushan arun shourie yashwant sinha say cbi should register an fir rafale deal case

भूषण, शौरी, सिन्हा ने राफेल मामले को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ फिर खोला मोर्चा

  • Updated on 11/16/2019

नई दिल्‍ली, टीम डिजिटल। वकील प्रशांत भूषण और पूर्व भाजपा नेता अरुण शौरी ने शुक्रवार को कहा कि सीबीआई को राफेल सौदे के मामले में प्राथमिकी दर्ज करनी चाहिए। एक दिन पहले ही उच्चतम न्यायालय ने केंद्र सरकार को इस मामले में क्लीन चिट दी है। उच्चतम न्यायालय ने फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने पर मोदी सरकार को क्लीन चिट देने के पिछले साल सुनाये गये फैसले पर पुनर्विचार के लिए भूषण, शौरी और पूर्व भाजपा नेता यशवंत सिन्हा की याचिका समेत अन्य याचिकाओं को गुरूवार को खारिज कर दिया। 

 राहुल, प्रियंका गांधी ने ‘मोदीनॉमिक्स’ को लेकर #BJP सरकार पर किए कटाक्ष

भूषण ने कहा कि सीबीआई तीन न्यायाधीशों की शीर्ष अदालत की पीठ के फैसले के बावजूद उनकी शिकायत पर जांच करने के लिए बाध्य है। उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अगर सीबीआई ऐसा नहीं करती तो वे फिर उच्चतम न्यायालय में जाएंगे। संवाददाताओं को शौरी ने भी संबोधित किया। इस दौरान सिन्हा उपस्थित नहीं थे।

मस्जिद के लिए जमीन के मामले पर पर्सनल लॉ बोर्ड के फैसले को तव्वजो देगा सुन्नी वक्फ बोर्ड

भूषण ने अपने पक्ष को पुख्ता करने के लिए न्यायमूर्ति के एम जोसेफ के फैसले का जिक्र किया जो फैसला सुनाने वाली प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ में शामिल रहे हैं। न्यायमूर्ति जोसेफ ने बुधवार को अलग फैसले में कहा कि सीबीआई से मौजूदा सरकार से पूरी तरह स्वतंत्र होकर काम करने की तथा सर्वोच्च स्तर के पेशेवर तौर-तरीकों की अपेक्षा की जाती है। 

जम्मू कश्मीर, लद्दाख में संसाधनों के बंटवारे के लिए मोदी सरकार ने गठित की समिति

भूषण ने कहा, ‘‘सीबीआई को मामले की जांच के लिए सरकार की अनुमति मांगनी होगी और उसके पास ऐसा करने के लिए तीन महीने का समय है।’’ अगर सीबीआई ऐसा नहीं करती है तो उसे मामले की जांच नहीं करने के कारण बताने होंगे। सिन्हा, शौरी और भूषण ने पिछले साल अक्टूबर में उच्चतम न्यायालय से अनुरोध किया था कि राफेल सौदे में प्राथमिकी दर्ज की जाए।

कश्मीर का अंतरराष्ट्रीयकरण करने में मोदी सरकार ने नहीं छोड़ी कोई कसर : कांग्रेस

शीर्ष अदालत ने 14 दिसंबर, 2018 को फैसले में कहा था कि 36 राफेल लड़ाकू विमानों को खरीदने में निर्णय लेने की प्रक्रिया पर संदेह का कोई कारण नहीं है। तीनों याचिकाकर्ताओं ने 14 दिसंबर के फैसले पर पुर्निवचार के लिए जनवरी में शीर्ष अदालत में गुहार लगाई थी। 

पवार बोले- नहीं होंगे मध्यावधि चुनाव, महाराष्ट्र में बनेगी शिवसेना-NCP-कांग्रेस की सरकार

comments

.
.
.
.
.