Sunday, Jan 29, 2023
-->
prashant bhushan say better late than never supreme court cognizance migrant laborers rkdsnt

प्रवासियों मजदूरों पर सुप्रीम कोर्ट के संज्ञान पर प्रशांत भूषण ने ली राहत की सांस

  • Updated on 5/26/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश में प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर अब सुप्रीम कोर्ट ने भी चिंता जताई है। इस मुद्दे पर खुद ही संज्ञान लेते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र की मोदी सरकार और सभी राज्यों को नोटिस जारी किया है। इसमें पूछा गया है कि सरकार ने मजदूरों के मुद्दे पर क्या कदम उठाए हैं। सरकारों को गुरुवार तक जवाब देने को कहा गया है। इसको लेकर वरिष्ठ वकील व सामाजिक कार्यकर्ता प्रशांत भूषण ने राहत भरी प्रतिक्रिया दी है। 

गुजरात में कोरोना फैलने का सीधा संबंध अहमदाबाद में ट्रंप के इवेंट से है: यशवंत सिन्हा

प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर अब सुप्रीम कोर्ट ने भी जताई चिंता, भेजा नोटिस

उन्होंने कहा है, 'प्रवासियों मजदूरों के बहुत से मामलों में आंखें बंद करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने स्वयं संज्ञान पर नोटिस लिया है! शायद सभी ओर से हो रही आलोचना के बाद यह बदलाव आया हो। चलिए उम्मीद करते हैं कि यह मामला 'देर आए दुरुस्त आए' वाला हो। देश सांस रोके इसको भी देखेगा।' 

कोरोना के बहाने महाराष्ट्र की सियासत गर्म, राणे के बाद फडणवीस भी हुए सक्रिय

बता दें कि इससे पहले भी मजदूरों के मुद्दे पर कई याचिकाएं दायर की गई थीं, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें खारिज कर दिया था, या उनकी सुनवाई की तारीख को आगे बढ़ा दिया था। सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान केंद्र की मोदी सरकार ने हलफनामा दायर कर कहा था कि कोई मजदूर सड़कों पर नहीं है। इसको लेकर विपक्षी दलों ने कई सवाल उठाए थे। 

राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर जमकर चलाए सियासी तीर, ये हैं प्रेस वार्ता के खास बिंदु

दरअसल, प्रवासी मजदूरों की दिक्कतें लॉकडाउन शुरू होते ही बढ़ गई थीं। इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट में सरकार से उनकी देखभाल को लेकर याचिका दायर हुई थी। लेकिन, उस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र की बातों पर यकीन कर याचिका को खारिज कर दिया था। लेकिन, कई राज्यों के हाई कोर्ट ने अपने राज्यों को मजदूरों के संबंध में जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए थे। 

कांग्रेस नेता अलका लांबा बोलीं- FIR से नहीं डरती बेटियाँ साहेब, लेकिन...

दरअसल, बस और रेल यातायात खुलने के बावजूद कई लोग अपने घर जाने के दौरान मर चुके हैं। अभी भी मजदूर पैदल चलने को मजबूर हैं। जो ट्रेन चलाई गई हैं, वे भी अपना रुट भटक चुकी हैं और ऐसे में मजदूरों का सफर एक-दो दिन की बजाए हफ्ते में बदल गया है। लोग भूखे-पियासे रहने को मजबूर हैं। 

CM योगी के दावे पर प्रियंका के बाद अखिलेश भी बोले-कुछ तो है जिसकी पर्दादारी है!

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.