Wednesday, Feb 19, 2020
prashant-bhushan-tehseen-poonawalla-angry-with-not-getting-copy-of-sc-verdict-of-judge-loya-case

सुप्रीम कोर्ट के फैसले की कॉपी नहीं मिलने से नाराज प्रशांत भूषण, पूनावाला

  • Updated on 4/19/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सोहराबुद्दीन शेख मुठभेड़ मामले की जांच कर रहे सीबीआई जज बी. एच. लोया की मौत की स्वतंत्र जांच की मांग करने वाली याचिकाओं को आज सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। लेकिन, अब कोर्ट के फैसले की कॉपी नहीं मिलने पर जंग छिड़ गई है।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खफा नजर आए प्रशांत भूषण, दी कड़ी प्रतिक्रिया

खास बात यह है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले की कॉपी कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद को तो मिल गई, लेकिन किसी और को यह कॉपी नहीं दी गई। इसका आरोप वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण और सामाजिक कार्यकर्ता तहसीन पूनावाला ने लगाया है। 

अमिताभ बच्चन बोले- कठुआ गैंग रेप जैसे विषय पर चर्चा से आती है घिन

मुकुल रोहतगी बोले- लोया मामले में निहित स्वार्थों के लिए दायर हुई थीं जनहित याचिकाएं

बता दें कि ये इन दोनों ने भी जज लोया मामले में जनहित याचिकाएं दायर की थीं। प्रशांत भूषण ने अपने ट्वीट के जरिए कॉपी नहीं मिलने का मुद्दा उठाते हुए सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट हैक होने पर भी हैरानी जताई है। इसके साथ ही वरिष्ठ वकील ने कोर्ट के फैसले की कॉपी सबसे पहले कानून मंत्री के पास पहुंचने पर भी सवाल उठाया है। 

कांग्रेस बोली- जज लोया केस में SC के फैसले से नहीं मिले कुछ प्रश्नों के जवाब

जज लोया केस में SC के फैसले के बाद CM योगी ने राहुल गांधी पर साधा निशाना

प्रशांत भूषण अपने ट्वीट में लिखते हैं, 'तो रविशंकर प्रसाद को जज लोया फैसले की कॉपी मिल गई, जबकि किसी और को एक कॉपी तक मुहैया नहीं कराई गई। उस पर सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट का बंद होना!'

बेहद चुनौतियों से भरी रही है रितिक रोशन की बहन सुनैना रोशन की जिंदगी

उधर, टीवी डिबेट के दौरान तहसीन पूनावाला ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले के कॉपी नहीं मिलने की शिकायत की है। उन्होंने कहा कि आखिर कानून मंत्री के पास सबसे पहले यह कॉपी कैसे पहुंच गई। आखिर कोर्ट का फैसला सबसे पहले उन्हें पढ़ने का मौका क्यों दिया गया। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.