Monday, Nov 29, 2021
-->
prashant-kishore-congratulates-rahul-priyanka-on-caa-nrc-says-will-not-apply-in-bihar

CAA-NRC पर प्रशांत किशोर ने राहुल-प्रियंका को दी बधाई, बोले- बिहार में नहीं करेंगे लागू

  • Updated on 1/12/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। जनता दल यूनाइटेड (Janata Dal United) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर बड़ा बयान दिया है और साथ ही कांग्रेस नेतृत्व की प्रशंसा की है।

प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर लिखा कि 'मैं सीएए एनआरसी के औपचारिक और अप्रतिम अस्वीकृति के लिए कांग्रेस नेतृत्व को धन्यवाद देने के लिए अपनी आवाज सम्मिलित करता हूं। खासकर इसे लेकर विशेष पहल के लिए प्रियंका गांधी और राहुल गांधी विशेष धन्यवाद देता हूं। बिहार के लोगों को एक बार फिर आश्वासन देता हूं कि राज्य में सीएए एनआरसी लागू नहीं होगा।'

बिहार विधानसभा चुनाव: BJP-JDU के बीच सीट बंटवारे को लेकर फंसा पेंच, ये है कारण

कई मायने में महत्वपूर्ण है किशोर का बयान
बता दें कि उनका यह बयान कई मायने में महत्वपूर्ण है क्योंकि उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून खुले तौर पर विरोध किया है। वहीं संसद में उनकी पार्टी इस मामाले में सरकार के साथ खड़ी थी। पार्टी अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार साफ कह चुके हैं कि पार्टी एनआरसी के खिलाफ है सीएए के नहीं। 

2020 में JDU को BJP से अधिक सीटों पर लड़ना चाहिए चुनाव: प्रशांत किशोर

गृहमंत्री अमित शाह बिहार करेंगे बिहार का दौरा
प्रशांत किशोर का ये बयान एनडीए में जेडीयू के रूख से अलग है वहीं ये बयान सिधे तौर पर मोदी सरकार के खिलाफ है। बता दें कि इन दिनों बीजेपी के प्रमुख नेता बिहार में सीएए और एनआरसी के पक्ष में सभाएं कर रहे हैं वहीं इसी के चलते गृहमंत्री अमित शाह बिहार आने वाले हैं। 

IPAC की मदद लेने पर बोले हरदीप सिंह पुरी, कहा- मैं नहीं जानता, कौन है प्रशांत किशोर?

मुख्यमंत्री CAA पर अपना रुख करें साफ
दरअसल प्रशांत किशोर बिहार के सीएम नीतीश कुमार के करीबी माने जाते हैं पर अब प्रशांत ने उनपर हमला करते हुए लिखा कि तीन मुख्यमंत्रियों ने नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी का विराध किया है अब वक्त आ गया है कि बाकि के मुख्यमंत्री इस पर अपना रुख साफ करें। 

NRC पर PK की राहुल को सलाह- कांग्रेस शाषित राज्यों में इसे न करें लागू

पहले भी दे चुके बीजेपी विराधी बयान
बतां दें कि बीतें दिसंबर 2019 में प्रशांत किशोर के बयान से बीजेपी और जेडीयू के गठबंधन पर सवाल उठने लगे। उन्होंने कहा था कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की वरिष्ठ सहयोगी होने के नाते उनकी पार्टी को अगामी बिहार विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की तुलना में अधिक सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए। 

उन्होंने कहा था कि मेरे अनुसार लोकसभा चुनाव का फॉर्म्युला विधानसभा चुनाव में दोहराया नहीं जा सकता। बता दें कि दोनों दलों ने साल 2019 लोकसभा चुनाव में समान संख्या में सीटों पर चुनाव लड़ा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.