Thursday, Feb 22, 2018

भाकपा का इशारा, कांग्रेस-वाम दलों के बीच चुनाव पूर्व गठबंधन संभव नहीं, लेकिन

  • Updated on 10/18/2017

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल। भाकपा महासचिव एस सुधाकर रेड्डी ने कहा है कि वाम दलों और कांग्रेस के बीच चुनाव पूर्व गठबंधन संभव नहीं हो सकता है क्योंकि कुछ राज्यों में वे मुख्य विपक्षी दल हैं, लेकिन भाजपा का मुकाबला करने के लिए एक साझा मंच बनाना जरूरी है। रेड्डी ने कहा कि कुछ राज्यों में चुनाव नहीं लडऩे की किसी तरह की सहमति बनाई जा सकती है।

 हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव: कांग्रेस ने खोले अपने पत्ते, जारी किये उम्मीदवारों के नाम

उन्होंने कहा, ‘हमें (भाकपा को) लगता है कि राष्ट्रीय स्तर पर एक चुनाव पूर्व गठबंधन संभव नहीं हो सकता क्योंकि केरल, त्रिपुरा में हम (कांग्रेस और वाम पार्टियां), एक दूसरे के मुख्य विरोधी हैं।’ हालांकि, रेड्डी ने कहा कि कुछ अन्य संभावनाएं भी हैं। कुछ राज्यों में राज्यवार गठबंधन संभव है। भाजपा का मुकाबला करने के लिए चुनावों से पहले सभी धर्मनिरपेक्ष, लेकतांत्रिक और वाम ताकतों का एक संयुक्त मंच जरूरी है।

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव: BJP ने उतारे 68 सीटों पर अपने उम्मीदवार

उन्होंने कहा कि इस तरह की कोई सहमति बन जाने पर, कुछ आंदोलन और संघर्ष संयुक्त रूप से किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों में, जहां कहीं संभव है, चुनाव नहीं लडऩे की किसी तरह की सहमति बनाई जा सकती है। रेड्डी ने कहा कि केरल के वेंगारा विधानसभा सीट पर हाल ही में हुए उपचुनाव में भाजपा का वोट प्रतिशत घटा है। उनके मुताबिक भाकपा पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के दायरे में लाने का समर्थन करती है और यह शुरू से ही ऐसी मांग कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.