Sunday, May 22, 2022
-->
prepaid-meters-will-be-installed-here-for-3-25-lakh-consumers-of-the-district

जिले के 3.25 लाख उपभोक्ताओं के यहां लगेंगे प्रीपेड मीटर

  • Updated on 5/13/2022

नई दिल्ली,(टीम डिजिटल):दिल्ली से सटे गौतमबुद्ध नगर में बिजली चोरी और बिल भुगतान की समस्या को निपटाने के लिए अब विद्युत निगम जिले के 3.25 लाख उपभोक्ताओं के यहां प्रीपेड मीटर लगाएगा। इसके बाद बिजली इस्तेमाल करने से पहले ही उपभोक्ता को अग्रिम भुगतान करना होगा। पैसा खत्म होते हुए आपकी बिजली आपूर्ति बंद हो जाएगी।

मुख्य अभियंता विद्युत निगम वीएन सिंह ने बताया कि पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड 2024 तक सामान्य मीटर हटाकर प्रीपेड मीटर लगाएगा। इसके लिए संस्था का निर्धारण मुख्यालय स्तर से ही होना है। मेरठ और सहारनपुर जोन में इसका ट्रायल शुरू है। घर, उद्योग समेत अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर जुलाई से इसकी शुरुआत होगी। इसके बाद बिजली सिस्टम मोबाइल और डिश टीवी की तरह काम करेगा। आप रिचार्ज कराएंगे तो ही बिजली मिलेगी। वर्तमान में बकाया बिजली बिल वसूली और चोरी रोकना निगम के लिए सबसे बड़ी चुनौती है। निगम का पूरा सिस्टम इसी में लगा रहता है। बिजली चोरी रोकने को खुले तारों की जगह एबी केबल के साथ ही आम्र्ड केबल डाले जाएंगे। 

वर्तमान में निगम का करीब 200 करोड़ रुपए बिजली भुगतान बकाया
पीवीवीएनएल का उपभोक्ताओं पर औसतन 15 प्रतिशत बिजली बिल हर माह बकाया रह जाता है। वर्तमान में निगम का करीब 200 करोड़ रुपए बिजली भुगतान बकाया है। ग्रामीण क्षेत्रों में 29 प्रतिशत तक लाइन लास है। यह निगम के लिए बड़ी चुनौती है। लाइन लास कम करने पर विशेष फोकस है। 
 

रीवैम्प योजना के तहत लग रहे मीटर
पीवीवीएनएल पुनरुत्थान वितरण क्षेत्र योजना के तहत पीवीवीएनएल के 13 जिलों में करीब 13 हजार करोड़ से काम होगा। प्रीपेड मीटर भी इसी योजना का हिस्सा है। केंद्र सरकार ने 2026 तक सभी शहरों में प्रीपेड मीटर लगाने का लक्ष्य रखा है। इसके तहत निगम ने काम शुरू कर दिया है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.