Monday, May 23, 2022
-->
preparations-for-delivery-of-corona-vaccine-in-the-country-begin-today-prshnt

देश में कोरोना वैक्सीन पहुंचाने की आज से तैयारी शुरू, इन राज्यों में दो दिन तक चलेगा ड्राई रन

  • Updated on 12/28/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दुनिया में कोरोना (Coronavirus) कहर जारी है वही भारत में अब धीरे-धीरे संक्रमण कम होता नजर रहा है। कई देशों में कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) के टीकाकरण की प्रक्रिया शुरु हो गई है। जबकि भारत में आज से कोने-कोने तक कोरोना वैक्सीन पहुंचाने की तैयारियां शुरू हो जाएंगी। इसके लिए पंजाब, असम, आंध्र प्रदेश और गुजरात में कोरोना वैक्सीन से पहले तैयारियों का जायजा लेने के लिए दो दिवसीय ड्राई रन आज से किया जाएगा। इन सभी राज्यों के दो जिलों में पांच जगहों पर यह ड्राई रन किया जाएगा। ड्राइ रन में कोरोना वैक्सीन के लिए कोल्ड स्टोरेज और परिवहन व्यवस्था, भीड़ का प्रबंधन, सोशल डिस्टेंस जैसे अहम मुद्दे शामिल होंगे।

बताया जा रहा है कि ड्राई रन का मकसद वैक्सिनेशन से पहले सारी तैयारियों का जायजा लेने, कमी में सुधार करना है। साथ ही साथ प्लैनिंग, इंप्लीमेंटेशन या रिपोर्टिंग मैकेनिज्म को देखना और उसमें सुधार करना भी है।

केजरीवाल ने किसानों के बीच कृषि कानूनों को लेकर मोदी सरकार को जमकर कोसा

खास तौर पर बनी को-विन
बता दें कि वैक्सीन देने के लिए खास तौर पर बनी को-विन (Co-WIN) एप की ऑपरेशनल फीसिबिल्टी, फील्ड प्लानिंग और इंप्लीमेंटेशन चेक किया जाएगा। ये तरह की मॉक ड्रिल होगी। 

प्लांनिंग और तैयारी में को-विन ऐप एप्लीकेशन टेस्ट करना और आए हैल्थ केयर वर्कर का डाटा अपलोड करना। सेशन प्लांनिंग और वैक्सीनेटर डिप्लॉयमेंट। वैक्सिनेशन साइट पर वैक्सीन लाना और लॉजिस्टिक चेक करना और उसे को-विन एप के जरिए देना। सेशन साइट पर वैक्सिनेशन करना और रिपोर्ट करना। ब्लॉक, जिला और स्टेट रिव्यू मीटिंग करके फीडबैक देना होगा और अगर कहीं कमी होती है तो उसे रिपोर्ट किया जाएगा। 

राहुल के वीडियो को लेकर कांग्रेस ने किया भाजपा अध्यक्ष नड्डा पर पलटवार

साइट पर मौजूद होंगी लाभार्थियों की डिटेल्स
पांच सेशन वाली जगहों में से प्रत्येक ड्राई रन के लिए 25 परीक्षण लाभार्थियों जो कि हेल्थकेयर वर्कर्स होंगे की पहचान की गई है। ड्राई रन सेशन साइट पर परीक्षण लाभार्थियों की डिटेल्स साइट पर मौजूद होंगी। हैल्थ केयर वर्कर के साथ सेशन फ्लो का आकलन होगा। इस दौरान कोई वैक्सीन नहीं दिया जाएगा, लेकिन जैसा वैक्सिनेशन के दौरान होगा वो पूरी प्रक्रिया की जाएगी।

योजना के दौरान सबसे पहले 25 डमी हैल्थ केयर वर्कर दो घंटे में इस साइट पर आएंगे। इसके बाद पहला वैक्सिनेशन ऑफिसर लाभार्थियों का नाम लिस्ट से मिलान करेके, दूसरा वैक्सीनेशन अधिकारी इसको को-विन एप के जरिए वेरीफाई करेगा। इसके बाद वैक्सीनेशन अधिकारी डमी का टीकाकरण करेगा, फिर वैक्सीनेशन अधिकारी को-विन एप पर टीकाकरण को रिपोर्ट करेगा।

वहीं तीसरा और चौथा वैक्सीनेशन अधिकारी भीड़ का प्रबंधन का काम करेंगे, इंटर प्रोसेस कम्युनिकेशन मैसेजिंग, वैक्सीनेटर का समर्थन करेंगे। लाभार्थी टीकाकरण के बाद 30 मिनट प्रतीक्षा करेंगे। इस दौरान दो तीन डमी वैक्सीन लगने के बाद अगर कोई दुष्प्रभाव की घटना होती है तो वह सेशन साइट से को-विन ऐप पर रिपोर्ट की जाएंगा।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत दून अस्पताल में भर्ती 

टीका उपलब्ध होने पर इन लोगों को मिलेगा खुराक
बता दें कि  महाराष्ट्र सरकार के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने राज्य में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण के बड़े अभियान के लिए 16,000 मेडिकल स्टाफ को प्रशिक्षित करके शुरुआती चरण का काम पूरा कर लिया गया है और टीका उपलब्ध होने पर इसे लोगों को दो खुराक में दिया जाएगा।       

उन्होंने कहा कि ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन (रूप) को लेकर घबराने की जरूरत नहीं है और बेहद संक्रामक बताए जाने वाले इस वायरस के स्वरूप का पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान अध्ययन कर रहा है।  

उन्होंने कहा कि कोविड-19 मरीजों के उपचार के लिए अभी जिन दवाओं का इस्तेमाल हो रहा है, उन्हीं का उपयोग कोरोना वायरस के नए प्रकार पर भी किया जाएगा। टोपे ने कहा कि राज्य सरकार ने उभरती स्थिति से निपटने के वास्ते ब्रिटेन से लौट रहे यात्रियों के लिए अनिवार्य सांस्थानिक पृथकवास समेत शहरों में रात में कर्फ्यू लागू करने जैसे कदम उठाए हैं।       

कोविड-19 का टीका लेने के लिए जो लोग पंजीकरण कराएंगे, उन्हें दो खुराक लेना होगा। भारत बायोटेक और पुणे स्थित सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने व्यापक स्तर पर टीके के वितरण के लिए अनुमति मांगी है।     

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.