Tuesday, Aug 16, 2022
-->
president-ramnath-kovind-took-the-first-dose-of-corona-vaccine-at-rr-hospital-prshnt

Corona vaccination: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने RR अस्पताल में ली कोरोना वैक्सीन की पहली डोज

  • Updated on 3/3/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश में कोरोना वैक्सीनेशन (Corona vaccination) का दूसरे चरण की शुरूआत एक मार्च से हो चुका है। इस चरण में आम लोगों समेत कई विशिष्ठ लोगों ने भी कोरोना वैक्सीन का डोज लिया है, पहले दिन ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने वैक्सीने लगवाया था, अब पीएम मोदी के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज दिल्ली के आरआर हॉस्पिटल में वैक्सीन की पहली डोज ली।

देश में कोरोना महामारी पर नियंत्रण पाने को कोरोना टीकाकरण का दूसरा चरण आज यानी एक मार्च से शुरू हो गया है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैक्सीन की पहली खुराक ली। उन्होंने लोगों से भी कोरोना का टीका लगवाने की अपील की। बता दें कि पीएम मोदी ने भारत बॉयोटेक की कोवैक्सीन की पहली डोज ली है। नई दिल्ली स्थित एम्स अस्पताल में काम करने वाली पुडुचेरी की नर्स पी निवेदा ने प्रधानमंत्री मोदी को स्वदेशी कोवैक्सिन की डोज लगाई है।

गठबंधन की राजनीति में कमजोर पड़ी कांग्रेस, सीट शेयरिंग में आ रही ये समस्या

निजी अस्पतालों का उपयोग करने का निर्देश
राष्ट्रीय राजधानी स्थित अखिल भारतीय आयुर्वज्ञान संस्थान के प्रमुख डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि वरिष्ठ नागरिकों और अन्य बीमारियों से ग्रस्त 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण अभियान शुरू होने के पहले ही दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के टीके की पहली खुराक लेने से लोगों के मन में टीके के प्रति किसी भी तरह की हिचक दूर हो जानी चाहिए।

टीकाकरण अभियान के दूसरे चरण के सोमवार से शुरू होने के बाद से कोविड-19 टीकाकरण के लिए पंजीकरण करने वाले 50 लाख से अधिक लाभार्थियों के साथ और देश के कई हिस्सों में भीड़भाड़ के कारण केंद्र ने मंगलवार को राज्यों को अपने निजी अस्पतालों का उपयोग करने का निर्देश दिया। टीकाकरण अभ्यास के लिए सरकारी स्वास्थ्य बीमा योजनाओं के तहत समान नहीं हैं।

दुनिया में सबसे सस्ती है भारत की कोरोना वैक्सीन, चीन की सबसे महंगी

सत्र को शाम 5 बजे तक सीमित करना अनिवार्य
केंद्र ने यह भी कहा है कि अस्पताल राज्य सरकारों के परामर्श से अपने टीकाकरण सत्रों का विस्तार कर सकते हैं, और यह कि सत्र को शाम 5 बजे तक सीमित करना अनिवार्य नहीं है। इसके अलावा, राज्यों और अस्पतालों से कहा गया है कि वे टीकाकरण स्लॉट को 15 दिनों से एक महीने के लिए खोलें। वर्तमान में सह-विन पोर्टल पर आवेदन करने वाले लाभार्थी केवल एक सप्ताह के लिए स्लॉट पा सकते हैं।

सभी निजी अस्पतालों में तेजी से जारी है टीकाकरण अभियान, सबसे आगे बुजुर्ग

2,287 हेल्थ केयर वर्कर भी शामिल
कोरोना वायरस रोधी वैक्सीन लगवाने में बुजुर्ग सबसे आगे हैं। दूसरे दिन मंगलवार को 60 वर्ष से अधिक उम्र के 10,213 बुजुर्गों ने वैक्सीन का पहला डोज लिया।  हेल्थ केयर वर्करों और फ्रंटलाइन वर्करों की तुलना में दूसरे दिन भी सबसे ज्यादा बुजुर्गों ने टीका लगवाया। वहीं, किसी बीमारी से ग्रसित 45 वर्ष से ज्यादा उम्र के 1,442 लोगों ने टीका लगवाया। एक दिन में कुल 21277 लोगों ने टीका लगवाया। इसमें 3,659 फंट्रलाइन वर्कर और 2,287 हेल्थ केयर वर्कर भी शामिल हैं। जबकि 3676 हेल्थ केयर वर्कर ने वैक्सीन की दूसरी डोज ली।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.