Friday, Dec 09, 2022
-->
private-hospitals-are-not-giving-birth-and-death-information-notice-issued

निजी अस्पताल नहीं दे रहे जन्म-मृत्यु की जानकारी, नोटिस जारी

  • Updated on 9/16/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। जिला स्वास्थ्य विभाग ने निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम को कई बार पत्र जारी कर जन्म-मृत्यु की जानकारी नहीं देने पर सख्ती बरत रहा है। विभाग ने ऐसे 50 से अधिक अस्पतालों और नर्सिंग होम को नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में चेतावनी देेते हुए कहा कि 21 दिन के भीतर सीआरएस पोर्टल पर अपलोड करने और सीएमओ ऑफिस को जानकारी नहीं देने पर रजिस्ट्रेशन निरस्त कर दिया जाएगा।  

बीते कई साल पहले ही निजी अस्पताल और नर्सिंग होम को जन्म-मृत्यु की जानकारी पोर्टल पर देना अनिवार्य कर दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से कॉर्डिनेटर भी नियुक्त कर दिए गए है। जो निजी अस्पताल और नर्सिंग होने से जन्म-मृत्यु का डेटा कलेक्ट करते हैं। लेकिन, अस्पतालों की ओर से उन्हें भी डेटा पूरा नहीं दिया जाता। जन्म-मृत्यु का डेटा पूरा नहीं मिलने के कारण विभाग को भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। 

हाल ही में हुई समीक्षा बैठक में भी स्वास्थ्य अधिकारियों को इस संबंध में फटकार तक लग चुकी है। इसके अलावा बच्चों को लगने वाले इंजेक्शन की संख्या भी जन्म के डेटा से कहीं ज्यादा होती है। वहीं, अस्पतालों से ही जन्म प्रमाण पत्र मिल सकते है। लोगों को भी प्रमाण पत्र बनवाने के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर नहीं लगाने पडेंगें। इसे लेकर कई बार निजी अस्पताल को पत्र जारी कर चेताया जा चुका है।

लेकिन अस्पताल अपनी मनमानी कर समय पर जानकारी नहीं देते। अब विभाग ने जन्म मृत्यु का डाटा ऑनलाइन न करने वाले 50 से अधिक निजी अस्पताल व नर्सिंग होम को नोटिस जारी किया गया है। सीएमओ डॉ. भवतोष शंखधर ने कहा कि अगर 21 दिन में अपने डेटा को अपलोड नहीं किया गया, तब जन्म-मृत्यु रजिस्ट्रीकरण अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.