Thursday, Feb 09, 2023
-->
private-hospitals-did-not-join-the-panel-of-ayushman-yojana-even-after-6-months-of-application

आवेदन के 6 माह बाद भी आयुष्मान योजना के पैनल पर नहीं शामिल हुए निजी अस्पताल 

  • Updated on 12/4/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। आयुष्मान भारत योजना के तहत मरीजों को निशुल्क उपचार दिलाने को लेकर जिम्मेदार अधिकारी गंभीर नहीं है। बीते छह माह से कई निजी अस्पतालों को योजना के अनुसार पैनल में शामिल नहीं किया गया है। जिससे मरीजों को इन निजी अस्पतालों में आयुष्मान लाभार्थियों का उपचार नहीं किया जा रहा है। 2011 की आर्थिक जनगणना के आधार पर गरीब, असहाय परिवारों को आयुष्मान भारत योजना में शामिल किया गया है।

इसके तहत प्रधानमंत्री जनआरोग्य योजना, मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना और अंत्योदय योजना के 2.16 लाख परिवारों के 7.72 लाख लोगों के आयुष्मान कार्ड बनने हैं। लेकिन चार साल बाद भी जिले में अभी तक कुल 2.05 लाख कार्ड ही बन पाये हैं। जिले में फिलहाल 42 अस्पताल आयुष्मान भारत योजना के पैनल पर है। कार्ड धारक जाकर पांच लाख रुपए तक का निशुल्क इलाज करा सकते हैं।

अभी भी कई अस्पताल पैनल पर जुडऩे के लिए आवेदन कर चुके है। लेकिन, वसुंधरा सेक्टर 15 स्थित वसुंधरा अस्पताल, वैशाली स्थित नवीन अस्पताल, आरडीसी स्थित हर्ष ईएनटी अस्पताल समेत 7 अस्पतालों को बीते छह माह से पैनल में नहीं जोड़ा गया है। कुछ अस्पतालों को एक साल से अधिक समय बीत चुका है। फिलहाल जिले के 35 निजी और सात सरकारी चिकित्सालयों में आयुष्मान के पैनल में है। जहां श्वास रोग, हृदय रोग, गुर्दा रोग, पेट रोग, अस्थि रोग, मस्तिष्क रोग, सामान्य एवं जटिल सर्जरी समेत 1350 बीमारियों को कवर किया गया है।

इस योजना के तहत इन बीमारी से ग्रसित किसी भी व्यक्ति का सांल में पांच लाख रुपए तक का निशुल्क इलाज किए जाने का दावा किया जा रहा है। वहीं योजना के जनपद नोडल अधिकारी डॉ. आरके गुप्ता का कहना है कि पैनल में शामिल होने के लिए निजी अस्पतालों के आवेदनों की जांच पूरी कर शासन को भेजी गई है। शासन से पैनल में शामिल करने का निर्णय लिया जाएगा। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.