Monday, Aug 02, 2021
-->
priyanka-for-the-pm-not-the-countryman-priority-is-propaganda-and-politics-prshnt

प्रियंका गांधी का आरोप, कहा- प्रधानमंत्री के लिए देशवासी नहीं, प्रचार और राजनीति है प्राथमिकता

  • Updated on 6/12/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने कोरोना महामारी की दूसरी लहर में पैदा हुए हालात को लेकर शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री के लिए भारतीय नागरिक नहीं, बल्कि राजनीति प्राथमिकता है तथा उन्हें सिर्फ अपने प्रचार की चिंता रहती है। सरकार से सवाल करने की अपनी श्रृंखला ‘जिम्मेदार कौन’ के तहत प्रियंका ने एक बयान में यह दावा भी किया कि पूरी दुनिया ने देख लिया कि प्रधानमंत्री मोदी शासन करने में सक्षम नहीं हैं। उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री ने महामारी के दौरान अपने कदम पीछे खींच लिए और खराब दौरे के गुजरने का इंतजार किया। भारत के प्रधानमंत्री ने एक डरपोक की तरह व्यवहार किया। उन्होंने अपने ही देश को नीचा दिखाया।

मुंबई में भारी बारिश, मौसम विभाग की चेतावनी के मद्देनजर अधिकारी अलर्ट जारी

प्रियंका का दावा
प्रियंका ने दावा किया कि प्रधानमंत्री की व्यापक क्षमता को लेकर जो मिथ्या फैलाई गई, वो बेनकाब हो गई। कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया, प्रधानमंत्री के लिए भारतीय पहले नहीं आते। राजनीति पहले आती है। सच की उन्हें कोई परवाह नहीं है, वह सिर्फ प्रचार की परवाह करते हैं।  प्रियंका ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री ने समय रहते विशेषज्ञों की चेतावनियों पर ध्यान दिया होता या स्वास्थ्य संबंधी संसदीय समिति की सिफारिशों पर कदम उठाया होता हो देश में बेड, ऑक्सीजन और दवाओं की कमी नहीं पड़ती। उन्होंने कहा कि भारतीय नागरिकों के जीवन को तवज्जो नहीं देते हुए जीवन रक्षक दवाओं की करोड़ों खुराक निर्यात कर दी गई। 

पंजाबः अकाली दल और बसपा के बीच गठबंधन, मिलकर लड़ेंगे विधानसभा चुनाव

ईंधन के दाम पर प्रियंका के सवाल
बता दें कि इससे पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने शुक्रवार को आरोप लगाया था कि नरेंद्र मोदी सरकार ने कोविड-19 महामारी के दौरान पेट्रोल एवं डीजल पर 2.74 लाख करोड़ रुपये के कर वसूले, लेकिन जनता को कुछ नहीं मिला। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘महामारी के दौरान मोदी सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर कर वसूले पूरे 2.74 लाख करोड़ रुपये। इस पैसे से पूरे भारत को टीका (67000 करोड़ रुपये), 718 जिलों में ऑक्सीजन संयंत्र, 29 राज्यों में एम्स की स्थापना और 25 करोड़ गरीबों को छह - छह हजार रूपये की मदद मिल सकती थी। मगर मिला कुछ भी नहीं।

डोमिनिकाः HC ने खारिज की मेहुल चोकसी की जमानत याचिका, कही ये बात

पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने को लेकर विरोध प्रदर्शन
गौरतलब है कि कांग्रेस ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ शुक्रवार को देश भर में पेट्रोल पंपों के निकट सांकेतिक प्रदर्शन किया। पार्टी का कहना है कि इस दौरान कोराना संबंधी दिशानिर्देशों का पालन भी किया गया।

देश में पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने को लेकर देश भर में आज कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन जारी है। इसी कड़ी में दिल्ली में ईंधन की कीमतों को लेकर कांग्रेस का प्रदर्शन जारी है। कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल ने कहा, जब यूपीए सत्ता में थी, तब पेट्रोल और डीजल पर टैक्स 9.20 रुपये था। अब यह 32 रुपये है। हम पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क वृद्धि को पूरी तरह से वापस लेने की मांग करते हैं। ईंधन को जीएसटी के दायरे में आना चाहिए।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.