Sunday, Mar 24, 2019

सोशल मीडिया पर एक्टिव हुईं प्रियंका, पहला ट्वीट कर महात्मा गांधी की लाइन की साझा

  • Updated on 3/13/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस पार्टी में पद संभालने के बाद प्रियंका गांधी ने पहली बार गुजरात में जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने लोगों से सही मुद्दों पर बात करने को कहा। प्रियंका ने कहा कि अगले दो महीनों में कई मुद्दे उछाले जाएंगे लेकिन आपको जागरूक रहना है। इसके साथ ही पहली बार उन्होंने अपने ट्वीटर अकांउट पर ट्वीट किया। 

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्विटर पर दस्तक देने के एक महीने बाद मंगलवार रात अपना पहला ट्वीट किया। उन्होंने इसमें साबरमती आश्रम का उल्लेख किया और महात्मा गांधी के एक कथन का हवाला देते हुए कहा कि हिंसा सदा बुरी होती है।  

प्रियंका गांधी ने अपने पहले भाषण में मोदी सरकार को लिया आड़े हाथ  

अहमदाबाद में कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में शामिल होने के बाद पार्टी महासचिव ने यह ट्वीट किया।    उन्होंने कहा, साबरमती की सादगी में सत्य जीवित है। प्रियंका ने महात्मा गांधी के एक कथन का हवाला देते हुए कहा कि अगर हिंसा के मकसद में कुछ अच्छा दिखता है तो वह अस्थायी होता है, जबकि हिंसा में बुराई सदा के लिए होती है।

राकेश अस्थाना को लेकर क्रिश्चियन मिशेल ने अदालत में किया बड़ा दावा

कांग्रेस महासचिव और पूर्वी यूपी की प्रभारी पद संभालने बाद प्रियंका गांधी ने गुजरात में पहली बार चुनावी रैली में केंद्र की मोदी सरकार को इशारों-इशारों में आड़े हाथ लिया। अपने नपे-तुले भाषण में प्रियंका ने महात्मा गांधी, प्रेम और अहिंसा का जिक्र करते हुए सत्तारूढ़ भाजपा पर निशाना साधा। 

अंबानी की कंपनी के कर्जदाताओं को अपीलीय न्यायाधिकरण ने लगाई फटकार

भाजपा पर हमला करते हुए उन्होंने कहा, यह देश जनता का है, जो लोग बड़ी-बड़ी बातें करते हैं, उनसे पूछिए कि जो 15 लाख आपके खाते में आने थे, वे कब आएंगे। 2 करोड़ नौकरियों के वादे का सरकार ने क्या किया? प्रियंका ने कहा कि आने वाले दिनों में बेकार के मुद्दे उठाए जाएंगे, लेकिन इस बीच आपको जागरूक होना है, क्योंकि इस चुनाव के जरिए आप अपना फ्यूचर चुनने जा रहे हैं। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.