Wednesday, Oct 20, 2021
-->
priyanka gandhi said oxygen crisis arose due to modi government negligence pragnt

प्रियंका गांधी का केंद्र पर निशाना, कहा- सरकार की लापरवाही के चलते पैदा हुआ ऑक्सीजन संकट

  • Updated on 5/29/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी के लिए केंद्र सरकार की 'लापरवाही' को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि अगर केंद्र ने पहली और दूसरी लहर के बीच मिले समय में योजनाबद्ध ढंग से तैयारी की होती तो इस संकट को टाला जा सकता था।

Good News: दिल्ली में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान पहली बार एक दिन में हजार से कम केस

ऑक्सीजन संकट पर प्रियंका का फेसबुक पोस्ट
सरकार से प्रश्न पूछने की अपनी श्रृंखला 'जिम्मेदार कौन' के तहत उन्होंने फेसबुक पोस्ट के जरिए यह सवाल किया कि केंद्र ने महामारी वाले साल 2020 में ऑक्सीजन का निर्यात 700 प्रतिशत तक क्यों बढ़ा दिया? उन्होंने यह भी पूछा कि मोदी सरकार ने अपने ही विशेषाधिकार प्राप्त समूह की ऑक्सीजन संकट की सलाह को दरकिनार क्यों किया?

मुझे 10 नोबेल पुरस्कार मिलने चाहिए: बाबा रामदेव

मोदी सरकार ने टैंकरों की संख्या बढ़ाने का नहीं किया प्रयास
कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी ने कहा, 'महामारी की मार के पहले तक ऑक्सीजन को प्राथमिक रूप से औद्योगिक उद्देश्य के लिए इस्तेमाल किया जाता था, इसलिए भारत के पास ऑक्सीजन ट्रांसपोर्ट में इस्तेमाल होने वाले विशेष रूप से बनाये गए क्रायोजेनिक टैंकरों की संख्या 1200- 600 थी। कोरोना की पहली लहर और दूसरी लहर के बीच मोदी सरकार ने इन टैंकरों की संख्या बढ़ाने का कोई प्रयास नहीं किया।'

GST बैठक में नहीं मिली कोई राहत, कोरोना के इलाज से जुड़े सामानों को मुक्त किए जाने की मांग

विश्व का सबसे बड़ा ऑक्सीजन उत्पादक देश
उन्होंने दावा किया, 'भारत ऑक्सीजन का सबसे बड़ा ऑक्सीजन उत्पादक देश है, लेकिन केंद्र सरकार की लापरवाही के चलते कोरोना की दूसरी लहर के समय ऑक्सीजन संकट खड़ा हुआ और लोगों की जानें गईं। केंद्र सरकार ने 150 ऑक्सीजन संयंत्र चालू करने के लिए बोली लगाई थी, लेकिन उनमें से ज्यादातर संयंत्र अभी भी चालू नहीं हो सके हैं।'

Coronavirus: पिछले 46 दिनों में सबसे कम नए केस, मौत के आंकड़े में भी आई गिरावट

मोदी सरकार पर लगाया आरोप
प्रियंका ने यह आरोप भी लगाया, 'इस संकट काल में भी मोदी सरकार ने लोगों की जेब काटने में कोई कसर नहीं छोड़ी। संसद की स्वास्थ्य मामलों की स्थाई समिति ने सरकार को पहले ही सुझाया था कि केंद्र सरकार को ऑक्सीजन सिलेंडर के दाम नियंत्रित करने के प्रयास करने होंगे, लेकिन ऑक्सीजन सिलेंडर की कीमत पिछले साल 4000 रुपए थी वहीं एक साल में बढ़कर 7000 रुपए हो गई।' उन्होंने कहा, 'पिछले एक साल दौरान सरकार ने कोरोना पर विजय घोषित की, संसद के अंदर मंत्रियों ने इस विजय के लिए पीएम का स्तुतिगान भी किया। देश के वैज्ञानिकों, विशेषज्ञों से चेतावनी के बावजूद केंद्र ने दूसरी लहर के खतरे को अनदेखा किया।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.