Sunday, Sep 26, 2021
-->
priyanka-gandhi-says-allahabad-high-court-mirror-to-up-bjp-yogi-govt-accountability-fixed-rkdsnt

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने यूपी सरकार को सही आईना दिखाया, जवाबदेही तय हो: प्रियंका 

  • Updated on 5/5/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने उत्तर प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी से हो रही मौतों को इलाहाबाद उच्च न्यायालय द्वारा ‘नरसंहार’ करार दिए जाने के बाद बुधवार को कहा कि अदालत ने राज्य की भाजपा सरकार को सही आईना दिखाया है तथा अब जवाबदेही तय होनी चाहिए। 

IPL के सभी मैच अनिश्चितकाल के लिए स्थगित : केंद्र ने कोर्ट को बताया

उन्होंने फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘‘उच्च न्यायालय ने सरकार को सही आईना दिखाया है। उप्र सरकार ऑक्सीजन की कमी की बात को लगातार झुठलाती रही। कमी की बात बोलने वालों को धमकी देती रही। जबकि सच्चाई ये है कि ऑक्सीजन की कमी से लगातार मौतें हुई हैं और इसकी जवाबदेही तय होनी चाहिए।’’ 

हाई कोर्ट के अवमानना नोटिस के खिलाफ मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से लगाई गुहार

कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी ने ऑक्सीजन की कमी का हवाला देते हुए दावा किया, ‘‘सरकार कहती है कि कोई अभाव नहीं है। लेकिन जमीन पर लोग सरकार के इस बयान की सच्चाई बता रहे हैं। अभाव ही अभाव है। अभाव के चलते ब्लैक मार्केटिंग वाले आपदा में अवसर तलाश रहे हैं। बस सरकार का कोई अता - पता नहीं है।’’ 

स्टालिन ने तमिलनाडु के राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार बनाने का पेश किया दावा

गौरतलब है कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने ऑक्सीजन की कमी से हुई कोविड-19 मरीजों की मौत से जुड़ी खबरों पर संज्ञान लेते हुए लखनऊ और मेरठ के जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे इनकी 48 घंटों के भीतर तथ्यात्मक जांच करें। जस्टिस सिद्धार्थ वर्मा और न्यायमूर्ति अजित कुमार की पीठ ने राज्य में संक्रमण के प्रसार और पृथक-वास केन्द्र की स्थिति संबंधी जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए यह निर्देश दिया। 

केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह पर कांग्रेस ने लगाए भ्रष्टाचार के आरोप, मांगा इस्तीफा

अदालत ने कहा, 'हमें यह देखकर दुख हो रहा है कि अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं होने से कोविड मरीजों की जान जा रही है। यह एक आपराधिक कृत्य है और यह उन लोगों द्वारा नरसंहार से कम नहीं है जिन्हें तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन की सतत खरीद एवं आपूर्ति सुनिश्चित करने का काम सौंपा गया है।’’ 

कर्नाटक में ऑक्सीजन की कमी से 24 मरीजों की मौत की जांच करेंगे रिटायर जज 


 

comments

.
.
.
.
.