Friday, Jun 18, 2021
-->
Protest continues in Punjab against agricultural laws sohsnt

पंजाब में कृषि कानूनों के विरोध में जारी है आंदोलन, किसानों ने केंद्र से रखी ये मांग

  • Updated on 11/19/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पंजाब (Punjab) में केंद्र की मोदी सरकार (Modi Govt) द्वारा लाए गए कृषि कानूनों (Farmers Bill) के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन अभी भी जारी है। इन आंदोलन के चलते रेलवे को 33 ट्रेनें रद करनी पड़ीं, इसके साथ ही 11 ट्रेंनों को गंतव्‍य तक पहुंचने से पहले ही रोक पड़ गया। ऐसे में अब किसानों ने कहा है कि उनका ये आंदोलन इसी तरह जारी रहेगा। 

चुनाव में हार के बाद कांग्रेस में घमासान, गोहिल ने भेजा इस्तीफा तो प्रदेश अध्यक्ष को हटाने की मांग

किसान नेताओं ने की ये मांग
मीडिया से यहां बात करते हुए किसान नेताओं ने जोर देकर कहा कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ उनका प्रदर्शन जारी रहेगा। किसान नेता रुलदू सिंह ने कहा, 'केंद्र ने पंजाब और यहां के किसानों, कारोबारियों और श्रमिकों के खिलाफ अड़ियल रवैया अपनाया है और हम केंद्र सरकार के इस रुख की निंदा करते हैं।’’ उन्होंने कहा कि राज्य में मालगाड़ियों का परिचालन रोके हुए करीब एक महीने का समय हो गया है। राज्य के विभिन्न किसान संगठनों ने बुधवार को भाजपा नीत केंद्र सरकार के ‘अड़ियल’ रवैये की निंदा करते हुए कहा कि केंद्र पहले मालगाड़ियों का परिचालन शुरू करे इसके बाद वे यात्री रेलगाड़ियों को चलने देने पर विचार करेंगे।

नहीं थम रहा राज्यपाल और CM ममता बनर्जी के बीच जुबानी जंग, जानिए अब क्या हुआ?

रेलवे ने कही ये बात
रेलवे का कहना है कि या तो वह मालगाड़ी और यात्री गाड़ी दोनों का परिचालन करेगा या फिर किसी का भी परिचालन नहीं करेगा। किसानों ने दिल्ली में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, रेल मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य राज्यमंत्री सोम प्रकाश के साथ हुई बैठक बेनतीजा रहने के कई दिन बाद यह बैठक की। सिंह ने कहा कि केंद्र के अड़ियल रवैये की वजह से किसान, कारोबारी और श्रमिक बुरी तरह से प्रभावित हुए है। उन्होंने आगे कहा कि करीब 30 किसान संगठनों के प्रतिनिधि कृषि कानूनों के खिलाफ 26 और 27 नवंबर को दिल्ली प्रदर्शन करने के लिए ट्रैक्टर से जाने को तैयार हैं।

बिहार फतह के बाद अन्य राज्यों की तैयारी में जुटी BJP, दिसंबर में राज्य ईकाई की समीक्षा करेगी पार्टी

उन्होंने बताया, 'लाखों किसान ट्रैक्टर से दिल्ली जाने को तैयार हैं। कोरोना वायरस महामारी के चलते दिल्ली में विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं देने पर उन्होंने कहा कि यह ‘बहाना’ है। सिंह ने कहा, 'वे अनुमति दें या नहीं, हम दिल्ली जाने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।' उल्लेखनीय है कि ‘दिल्ली चलो’ प्रदर्शन का आह्वान पूरे देश के 200 किसान संगठनों के मंच ‘ अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति ने किया है।

केजरीवाल ने कोरोना की मौजूदा स्थिति को लेकर बुलाई सर्वदलीय बैठक

एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि किसान राज्य में भाजपा नेताओं के घर के सामने प्रदर्शन कर रहे हैं। उनसे पूछा गया कि क्या वह भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा का भी घेराव करेंगे अगर वह पंजाब आते हैं? इस पर सिंह ने कहा कि वे निश्चित रूप से ऐसा करेंगे। उल्लेखनीय है कि नड्डा 19 नवंबर को पंजाब के 10 जिलों के पार्टी कार्यालय का डिजिटल उद्घाटन करेंगे। इसके बाद वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पार्टी की तैयारियों की समीक्षा के लिए उनका तीन दिन का पंजाब दौरा प्रस्तावित है।

comments

.
.
.
.
.