Friday, Feb 28, 2020
pulwama terrorists attack  dsp davinder singh

Pulwama Attack: दविंद्र सिंह के इशारे पर हुआ था पुलवामा अटैक!

  • Updated on 2/14/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पुलवामा अटैक (Pulwama Attack) को आज पूरे एक साल हो गए है, साल 2019 को वैलंटाइन दिन के मौके पर जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ (CRPF) के काफिले पर हमला हुआ था, जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे। पुलवामा में हुए इस हमले की जम्मेदारी आतंकी मसूद अजहर के संगठन ने ली थी। जिसके जवाब में भारतीय सेना ने पाकिस्तान 26 फरवरी को पाकिस्तान (Pakistan) के खैबर-पख्तूनख्वा प्रांत में जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर हमला करके करीब 300 आतंकी मार गिराए थे।

लेकिन आज भी एक सवाल है जिसका जवाब सभी जानना चाहते हैं आखिर कैसे सीआरपीएफ की कानवाई में आईईडी से भरी एक कार सेना के काफिले के बीच मे आ जाती हैं ? खुफिया एजेंसियों ने पहले ही हमले के लिए अलर्ट जारी किया था फिर भी इस घटना को अंजाम देने में आतंकी सफल कैसे हुए ? क्या इस मामले के तार दविंदर सिंह से जूड़े है ? आपको बता दें कि  हाल ही में कश्मीर घाटी में दो आतंकवादियों के साथ गिरफ्तार डीएसपी दविंदर सिंह की भूमिका को लेकर भी गंभीर सवाल खड़े किए जा रहे है, कही दविंदर के तार इस हमले से तो नहीं जूड़े हैं।

Pulwama Attack: तीन दशकों का सबसे बड़ा आत्मघाती हमला, जब दहल गया था देश

पुलिस ने क्यों किया DSP दविंदर सिंह को गिरफ्तार
कुछ दिनों पहले जम्मू कश्मीर (jammu kashmir) पुलिस ने आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन (Hizbul Mujahideen) के चीफ नवीब बाबू (Naveen Babu) के साथ जम्मू-कश्मीर पुलिस के DSP दविंदर सिंह (Davinder singh) को गिरफ्तार किया था। पुलिस के अनुसार कि डीएसपी इन आतंकवादियों के साथ कार में सफर कर रहे थे। और जब पुलिस ने इस कार को रोकने की कोशिश की तो डीएसपी अपनी वर्दी का रौब दिखाने लगे थे। जिसके बाद मौके पर आईजी (IG) की उपस्थिति के कारण उनकी गिरफ्तारी संभव हो पाई थी। 

#AAP की जीत के बाद शाहीनबाग में और बढ़ने लगी बिरयानी की बिक्री

अफजल से भी जूड़े हे तार
साल 2001 के संसद हमले में अफजल गुरु ने डीएसपी दविंदर सिंह का नाम  लिया था। अफजल ने अपने वकील को लिखे पत्र में बताया था कि संसद हमले से पहले डीएसपी दविंदर सिंह ने उन्हें एक व्यक्ति को दिल्ली में किराए पर घर दिलाने को कहा था। जिसका नाम मोहम्मद (Mohamed) था। जिसे दिल्ली पुलिस ने बाद में 2001 के संसद हमले का मुख्य आरोपी बताया था। 

पुलवामा अटैक से क्या भारत ने बदली नीति, अपना ली है आक्रामक छवि ?

दविंद्र की कार में गोला- बारुद क्यों
दविंद्र सिंह के गिरफ्तार होने के बाद केंद्र सरकार ने पूरे मामले कि जांच एन.आई.ए. के हवाले कर दी गई है। दविंद्र के घर में छापेमारी के दौरान 7.5 लाख रुपय कैश, एक नक्शा और कुछ संवेदनशील दस्तावेज मिले। इतना ही नहीं उनकी कार से गोला-बारूद तक भी बरामद किया गया था। जिसके बाद से सबका शक पुलवामा अटैक में हुए आतंकी हमले के तरफ गया, फिलहाल सरकारी एजेंसी पूरे मामले की जांच कर रही है।

 

     

 

comments

.
.
.
.
.