Wednesday, Sep 18, 2019
punjab government invites 25 big countries to invest in the state

मंदी से जूझ रहे देश में पंजाब सरकार का बड़ा कदम, 25 देशों को दिया निवेश का न्यौता

  • Updated on 9/6/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पंजाब (Punjab) के मुख्यमंत्री (Chief minister) कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने गुरुवार को विभिन्न विदेशी मिशनों के नुमायंदों और राजदूतों के साथ मुलाकात (Meeting) की और उनको राज्य (State) में निवेश (Invest) और श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के समागमों में शिरकत करने का न्योता दिया। 

दिल्ली सरकार के गृह विभाग ने कन्हैया को देशद्रोही मानने से किया इनकार

इनवैस्ट पंजाब की तरफ से ‘राजदूत संपर्क’ के अंतर्गत विदेशी मिशनों के साथ कराई गई वार्तालाप की अध्यक्षता करते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अलग-अलग मुल्कों के राजदूतों को मोहाली में इस साल 5 और 6 दिसंबर को कराए जा रहे प्रगतिशील पंजाब निवेशक सम्मेलन -2019 में शामिल होने का निजी तौर पर न्यौता भी दिया। इनवैस्ट सम्मेलन से पहले हुए इस संवाद प्रोग्राम में 25 से अधिक मुल्कों जिनमें अमरीका, यू.के., स्पेन, कतर, फ्रांस, इजराइल, कैनेडा, जापान, संयुक्त अरब अमीरात, ताइवान, स्लोवाक गणराज्य और चैक गणराज्य आदि शामिल थे, के राजदूत, व्यापारिक संस्थाओं और विदेशी दूतावासों के नुमायंदे प्रतिनिधि के तौर पर शामिल हुए। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि यह सम्मेलन पंजाब को उद्योगीकरण के मार्ग पर आगे लेजाने में मील का पत्थर साबित होगा, जिस दौरान विदेशी निवेशकों को पंजाब में व्यापार करने के मौकों की संभावनाओं बारे पता लगेगा। 

कन्हैया पर मुकदमा चलाने के लिए दो महीने में लेनी होगी जरूरी मंजूरी : अदालत

मुख्यमंत्री ने राजदूतों को जोर देकर कहा कि वह अपने-अपने मुल्कों के अग्रणी उद्योगों और उद्यमियों को पंजाब भेजें जो यहां निवेश करना चाहते हैं। इसके अलावा इस सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए व्यक्तिगत तौर पर भी उद्यमी हिस्सा ले सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य इस समय कृषि आधारित परंपरागत अर्थ व्यवस्था से उद्योगीकरण की तरफ तेजी से बदल रहा है, क्योंकि कृषि में राज्य की तरफ से पहले ही सर्वोत्तम स्थान हासिल करने के कारण और तरक्की की संभावनाएं मौजूद नहीं है। राज्य सरकार की तरफ से नयी औद्योगिक नीति लाई गई है जिससे निवेशकों को सहूलतें देते हुए व्यापार के लिए उद्यमियों को प्रोमोट किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य में निवेश समर्थकी नीतियों से औद्योगिक विकास में सकारात्मक निवेश के माहौल के रूप में नयी लहर पैदा हुई है जिसका प्रत्यक्ष प्रमाण मार्च 2017 से अब तक 50,000 करोड़ (7 बिलियन अमरीकी डॉलर) का निवेश जमीनी स्तर पर आने से मिलता है। 

कपिल मिश्रा ने खोली AAP की पोल, कहा- पूर्ण राज्य बना तो ‘दिल्ली को कश्मीर’ बना देंगे केजरीवाल

मुख्यमंत्री ने सभी मुल्कों के निवेशकों को यह भरोसा दिया है कि उनकी सरकार की तरफ से निवेशकों को राज्य में अपना यूनिट लगाने के लिए पूरा साथ और सहयोग दिया जायेगा। सभी जरूरी प्रवानगियां फास्ट ट्रैक पर डालते हुए कम से कम और तय समय के अंदर दी जा रही हैं। उन्होंने कहा कि सूक्ष्म, छोटे और मध्यम उद्योगों (एमएसएमई) का क्षेत्र राज्य में सामाजिक आर्थिक विकास का केन्द्र है और औद्योगिक विकास की रीढ़ की हड्डी है जिसको राज्य सरकार की तरफ से बहुत प्रथमिकता दी जा रही है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.