Tuesday, May 17, 2022
-->
Punjab JP Nadda met Akalis SAD on pretext of giving a son wedding card

नड्डा ने बेटे की शादी का कार्ड देने के बहाने टटोली अकालियों की नब्ज

  • Updated on 2/21/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा के बठिंडा पहुंचे पर अश्विनी शर्मा के नेतृत्व में भाजपा कार्यकत्र्ताओं ने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया। नड्डा अकाली दल के सुप्रीमो व पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल को बेटे की शादी का निमंत्रण देने के लिए पहुंचे थे। एयरपोर्ट से बादल गांव जाते हुए लगभग 10 स्थानों पर भाजपा कार्यकर्ता उनके स्वागत के लिए जुटे रहे। 

जामिया यूनिवर्सिटी में #NHRC ने पूरी की अपनी जांच, जल्द सौंपी जाएगी रिपोर्ट

बादल से मिलने के बाद नड्डा ने कुछ पल मीडिया को भी संबोधित किए और कहा कि बादल साहिब से उनके व्यक्तिगत संबंध हैं। जब वह छात्र यूनियन के अध्यक्ष थे, तभी से बादल साहिब से उनका निजी रिश्ता बना हुआ है। उन्होंने कहा कि वह बेटे की 6 मार्च को शादी का निमंत्रण देने के लिए आए थे और बादल साहिब ने सहज स्वीकार करते हुए कार्यक्रम में शामिल होने का आश्वासन दिया है। बादल के पैतृक गांव पहुंचकर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा भाजपा नेताओं से मिले। 

VHP के मॉडल पर ही बनेगा अयोध्या का राम मंदिर

इस दौरान कुछ समय उन्होंने अलग से बैठक की, जिसका खुलासा तो नहीं हुआ लेकिन माना जा रहा है कि उन्होंने इस दौरान अकाली दल की नब्ज टटोली है। राजनीतिक माहिरों का कहना है कि अगर नड्डा ने उन्हें निमंत्रण देना था तो वह दिल्ली में सुखबीर बादल व हरसिमरत कौर बादल को भी दे सकते थे लेकिन वह विशेष रूप से बादल गांव पहुंचे और निमंत्रण दिया।

शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों से क्यों निराश हैं वार्ताकार?

पारिवारिक दृष्टि से बादल परिवार से है हमारा रिश्ता : नड्डा
जे.पी. नड्डा ने कहा कि जब वह पंजाब के प्रभारी थे, तब भी बादल परिवार के साथ अच्छे रिश्ते रहे और मिलकर काम किया। राजनीतिक दृष्टि से नहीं बल्कि पारिवारिक दृष्टि से हमारा उनके साथ घनिष्ठ रिश्ता है। वह एन.डी.ए. के सबसे पुराने घटक हैं और उन्होंने मजबूती के साथ मिलकर काम किया। आगे भी रिश्ते कायम रहेंगे और पूरी ताकत के साथ मोदी के हाथ मजबूत करेंगे। बादल का अपना एक रुतबा व स्थान है, जिसकी भाजपा कदर करती है। आगे चलकर एन.डी.ए. को मजबूत करने में उनका योगदान रहेगा।
 

comments

.
.
.
.
.