Friday, May 27, 2022
-->
punjab-majithia-challenge-sidhu-from-amritsar-east-prakash-badal-will-fight-lambi-rkdsnt

पंजाब : मजीठिया अमृतसर पूर्व से सिद्धू को देंगे चुनौती, फिर लांबी से लड़ेंगे प्रकाश बादल

  • Updated on 1/26/2022


नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। शिरोमणि अकाली दल (शिअद) प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने बुधवार को घोषणा की कि पार्टी के वरिष्ठ नेता और उनके साले बिक्रम सिंह मजीठिया पंजाब कांग्रेस के प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ अमृतसर पूर्व से विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। सुखबीर बादल ने अपने 94 वर्षीय पिता और राज्य के पांच बार मुख्यमंत्री रह चुके प्रकाश सिंह बादल को एक बार फिर लांबी विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाने की भी घोषणा की। शिअद प्रमुख ने ये दोनों घोषणाएं अमृतसर में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान की। 

प्रयाग रेलवे स्टेशन पर उपद्रव मामले में दो व्यक्ति गिरफ्तार, गया में ट्रेन में लगाई आग

उन्होंने कहा कि मजीठिया यह सुनिश्चित करेंगे कि सिद्धू की जमानत जब्त हो जाए। उन्हें पहले ही मजीठा सीट से शिअद उम्मीदवार घोषित किया जा चुका था।मजीठिया के खिलाफ स्वापक औषधि एवं मन:प्रभावी पदार्थ (एनडीपीएस) अधिनियम के तहत पिछले माह मुकदमा दर्ज किया गया था। वह इस मामले में अग्रिम जमानत लेने का प्रयास कर रहे हैं।  इन दोनों सीट से उम्मीदवारों की घोषणा के साथ शिअद ने अपने हिस्से की सभी 97 सीट पर उम्मीदवार घोषित कर दिये हैं। पंजाब में 20 फरवरी को विधानसभा चुनाव होने हैं। शिअद ने 117 सीट के लिए होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के साथ चुनाव-पूर्व गठबंधन किया है। समझौते के तहत बसपा शेष 20 सीट से चुनाव लड़ेगी।  

जयराम रमेश ने गुलाम नबी आजाद पर बुद्धदेव भट्टाचार्य को आधार बनाकर कसा तंज

बसपा ने दलित हितों को अकाली दल के हाथों बेच दिया : चन्नी 
पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने बुधवार को दावा किया कि बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने दलितों से जुड़े हितों को शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के हाथों बेच दिया है। बसपा ने राज्य में अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए शिअद के साथ गठबंधन किया है। पंजाब के मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि राज्य में बसपा का कोई अस्तित्व नहीं है और उसने खुद को शिअद के हवाले कर दिया है। बसपा-शिअद गठबंधन के तहत बसपा विधानसभा की 117 में से 20 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी। 

परीक्षार्थियों के विरोध-प्रदर्शन पर रेल मंत्री बोले- शिकायतों का किया जाएगा समाधान

चन्नी ने कांग्रेस प्रत्याशी बलविंदर सिंह धालीवाल के पक्ष में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा, 'बसपा के संस्थापक कांशीराम जी के पास एक दृष्टि थी और उन्होंने समाज (अनुसूचित जाति समुदाय) की प्रगति के लिए पार्टी की स्थापना की थी लेकिन राज्य में पार्टी के वर्तमान नेतृत्व ने पार्टी को समाप्त कर दिया है।' उन्होंने कहा कि बसपा का दावा है कि वह अनुसूचित जाति समुदाय के 35 प्रतिशत हिस्से का प्रतिनिधित्व करती है, लेकिन उसने 35 प्रतिशत नहीं बल्कि 18 प्रतिशत सीटें ही स्वीकार की हैं। उन्होंने दावा किया कि पार्टी को जो 20 सीटें मिली हैं, वहां भी उसकी संभावनाएं बहुत कम हैं। 

पद्म भूषण से सम्मानित गुलाम नबी आजाद ने राजनीतिक भविष्य पर दी सफाई

मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि अकालियों ने चतुराई से सीटें अपने पास रख ली है। बसपा के खिलाफ हमला जारी रखते हुए चन्नी ने आरोप लगाया कि शिअद ने अपने पुराने सहयोगी भारतीय जनता पार्टी को लाभ पहुंचाने के लिए बसपा का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा, 'लोगों ने अकालियों के इस खेल से देखा है कि बसपा का उपयोग सिर्फ भाजपा को फायदा पहुंचाने के लिए किया जा रहा है।' 

राहुल गांधी ने किया RRB परीक्षा के नियमों का विरोध कर रहे युवाओं का समर्थन

चन्नी ने आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल पर भी हमला बोलते हुए दावा किया कि पार्टी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री को पंजाब में चेहरा बनाने के लिए 400 करोड़ रुपये खर्च किए। उन्होंने कहा, लेकिन जब उन्हें कोई जवाब नहीं मिला तो केजरीवाल ने भगवंत मान के नाम का इस्तेमाल सिर्फ लोगों की आंखों में धूल झोंकने के लिए किया।

 


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.