punjab news punjab flood flood in india

पंजाब बाढ़: मनोवैज्ञानिक रोगों से बचाव के लिये परामर्शदाताओं की नियुक्ति करना चाहती है सरकार

  • Updated on 8/26/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पंजाब सरकार ने सोमवार को बाढ़ प्रभावित जिलों में अधिकारियों को पीड़ितों के बीच अत्यधिक तनाव से जुड़े मनोवैज्ञानिक मुद्दों से बचाव के लिये परामर्शदाता नियुक्ति करने का निर्देश दिया है। राज्य में 30 साल में आई सबसे भीषण बाढ़ से निपटने के लिये किये जा रहे प्रयासों के तहत यह कदम उठाने को कहा गया है।

यह सुझाव बाढ़ के बाद कार्य योजना के हिस्से के रूप में दिया गया है। जालंधर, कपूरथला, रूपनगर, फिरोजपुर, लुधियाना, फजिल्का और मोगा जिला प्रशासनों को यह निर्देश जारी किया गया है। इसके अलावा दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि पीड़ितों की आर्थिक, शारीरिक और मानसिक बेहतरी का भी ध्यान रखा जाना चाहिये।

सरकार ने एक विज्ञप्ति में कहा, अपनी तरह की एक कार्रवाई की सिफारिश के तहत, राज्य सरकार ने बाढ़ पीड़ितों का मनोबल बढाने के लिये अत्यधिक तनाव से जुड़े मनोवैज्ञानिक रोगों से बचाव के लिये परामर्शदाताओं की नियुक्ति का सुझाव दिया है। 

अधिकारियों ने कहा कि पंजाब में 1988 के बाद से आई अब तक की सबसे भीषण बाढ़ में कई जिलों में लोग अपने घर, सामान और फसल खो चुके हैं। हालांकि अभी तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं मिली है। राज्य के बाढ़ प्रभावित राज्यों में आम जनजीवन भी प्रभावित हुआ है। राज्य सरकार का अनुमान है कि लगभग 1,700 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। एक अधिकारी ने कहा कि 4,000 हेक्टेयर क्षेत्र में खड़ी फसल बर्बाद हो गई है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.