पंजाब की झांकी को मिला तीसरा स्थान

  • Updated on 1/28/2019

नई दिल्ली/सुनील पाण्डेय। गणतंत्र दिवस के अवसर पर हुए दिल्ली में हुए राष्ट्रीय समारोह के दौरान पंजाब की झाँकी को तीसरा स्थान मिला है। पंजाब की झांकी में ऐतिहासिक 'जलियांवाला बाग' को दिखाया गया था। त्रिपुरा और जम्मू-कश्मीर की झांकी को क्रमवार पहला और दूसरा स्थान हासिल हुआ है। 

केंद्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन ने इसके लिए आज यहां पंजाब सरकार के सूचना एवं लोक संपर्क विभाग के सचिव गुरकिरत कृपाल सिंह ने डायरैक्टर अनिन्दिता मित्रा के साथ हासिल किया। इससे पहले विभिन्न विषयों को दर्शाती गणतंत्र दिवस की झांकी 1967 और 1982 में तीसरा स्थान हासिल कर चुकी हैं। 

राजभर ने BJP को दिया 24 फरवरी का अल्टीमेटम, CM योगी पर लगाए ये आरोप

जलियांवाला बाग कांड की झाँकी के जरिए संजीदगी से दिखाया गया। यह झाँकी अपने आप में जलियांवाला बाग हत्याकाँड की अप्रैल, 2019 में आ रही शताब्दी के प्रति विनम्र श्रद्धाँजलि है। राज्य की झांकी को हासिल हुआ यह इनाम नौजवान पीढ़ी में देशभक्ति और देश प्रेम की भावना को और मजबूत करने के लिए प्रेरणा का काम करेगा।

 इस साल गणतंत्र दिवस की थीम महात्मा गांधी की 150वीं जयंती से जुड़ी थी और कई राज्यों की झांकियां राष्ट्रपिता पर केन्द्रित रहीं। इनमें से 16 राज्यों एवं केन्द्र शासित प्रदेशों की और छह केन्द्र के सरकारी मंत्रालयों और विभागों की झांकियां थीं। बता दें कि यह लगातार तीसरा वर्ष है जब पंजाब की झाँकी को राष्ट्रीय स्तर पर होने वाले इन समागमों के लिए चुना गया है। 

Budget 2019: जानिए कब, कहां और कैसे पेश होगा बजट, ऐसे देख सकते हैं Live

उधर, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह  ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर झाँकी को तीसरा स्थान हासिल होने पर सूचना एवं लोक संपर्क विभाग को बधाई दी है। साथ ही कहा कि जलियांवाला बाग के ऐतिहासिक हत्याकाँड को पंजाब की झाँकी के जरिए संजीदगी से दिखाने के लिए सूचना एवं लोक संपर्क विभाग की टीम द्वारा अथक यत्न किये गए और झाँकी द्वारा तीसरा स्थान हासिल करना समूचे राज्य के लिए और भारत एवं विदशों में बसते पंजाबी भाईचारे के लिए गर्व वाली बात है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.