Sunday, Mar 07, 2021
-->
puspha kamal dahal of nepal communist party says party can still split as pm oli prsgnt

नेपाल पीएम ओली संग नहीं बन रही बात, अब टूट सकती है पार्टी- प्रचंड

  • Updated on 7/25/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नेपाल के पीएम ओली ने अपनी सरकार और पार्टी के लिए चीनी राजदूत के दबाव में आकर नई मुसीबतें खड़ी कर ली है। कुछ समय में पहले लग रहा था कि जल्द ही नेपाल की राजनीति में उठा तूफान शांत हो जाएगा लेकिन अब हालात ज्यादा बिगड़ते नजर आ रहे हैं।

हालातों के चलत ही नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के को-चेयर और पीएम ओली के प्रमुख विरोधी नेता पुष्प कमल दहल 'प्रचंड' ने सीधे कह दिया है कि अभी पार्टी टूटने की आशंका खत्म नहीं हुई है।

ओली के बयान से गुस्साए हिंदू संगठन ने वाराणसी में नेपाली युवक का किया मुंडन, लगवाए नारे

प्रचंड ने लगाए आरोप
उन्होंने साफ कहा है कि पार्टी टूट सकती है और इसका कारण ओली ही होंगे। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा है कि पीएम ओली के कहने पर कुछ लोगों ने देश के निर्वाचन आयोग के पास CPN-UMN नाम की पार्टी रजिस्टर कराई है और पार्टी के बीच पैदा हुए संकट को खत्म करने के लिए चीनी राजदूत ने ताबड़तोड़ मीटिंग्स भी पिछले कुछ से लगातार की हैं।

PM ओली के दावे को सिद्ध करने की पहल शुरू, असली अयोध्या के लिए थोरी में खुदाई करेगा पुरातत्व विभाग

दहल के ओली पर आरोप
वहीँ, माय रिपब्लिक की रिपोर्ट के अनुसार, काठमांडू में आयोजित पुष्प लाल श्रेष्ठ और नर बहादुर कर्मचार्य के स्मृति दिवस पर एक कार्यक्रम के दौरान चेयरमैन दहल ने संकेत दिए किए एनसीपी में संकट की वजह पीएम ओली का बर्ताव है। इतना ही नहीं, दहल ने पीएम ओली पर पार्टी को तोड़ने की कोशिश करने का आरोप लगाया और कहा कि ओली ने अपने पक्ष में छात्रों और पार्टी कार्यकर्ताओं से प्रदर्शन कराए।

गहलोत के इस बयान पर भड़के राज्यपाल कलराज मिश्र पूछा- गवर्नर की सुरक्षा की जिम्मेदारी किसकी है?

हुई सीक्रेट डील
वहीँ, ये भी कहा जा रहा है पीएम ओली और प्रचंड के बीच एक सीक्रेट डील हुई है जिसके चलते आने वाले दिनों में नेपाली कैबिनेट में बड़ा फेरबदल किया जाएगा। जिसमें प्रचंड गुट के कई नेताओं को कैबिनेट में बड़े पद मिलने की संभावना है। जिसकी घोषणा 28 जुलाई को होने की संभावना है।

भगवान राम के प्रति नेपाली प्रधानमंत्री ओली का मूर्खतापूर्ण बयान

comments

.
.
.
.
.