Monday, Sep 20, 2021
-->
pv sindhu wins bronze by defeating xiao first indian woman to win two olympic medals rkdsnt

जियाओ को हराकर सिंधू ने जीता कांस्य पदक, दो ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला

  • Updated on 8/1/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता और विश्व चैंपियन छठी वरीय पीवी सिंधू ने रविवार को यहां चीन की आठवीं वरीय ही बिंग जियाओ को सीधे गेम में हराकर तोक्यो खेलों की महिला एकल स्पर्धा का कांस्य पदक जीता और ओलंपिक में दो पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी। दिग्गज पहलवान सुशील कुमार बीजिंग 2008 खेलों में कांस्य और लंदन 2012 खेलों में रजत पदक जीतकर ओलंपिक में दो व्यक्तिगत पदक जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने थे। 

ओलंपिक में मैरीकॉम की पोशाक को लेकर हुए विवाद पर नियमों की पड़ताल

दुनिया की सातवें नंबर की खिलाड़ी सिंधू ने मुसाहिनो फॉरेस्ट स्पोट््र्स प्लाजा में 53 मिनट चले कांस्य पदक के मुकाबले में चीन की दुनिया की नौवें नंबर की बायें हाथ की खिलाड़ी बिंग जियाओ को 21-13, 21-15 से शिकस्त दी। सिंधू को सेमीफाइनल में चीनी ताइपे की ताइ जू ङ्क्षयग के खिलाफ 18-21, 12-21 से शिकस्त झेलनी पड़ी थी। सिंधू ने एकतरफा मुकाबले में अधिकांश समय दबदबा बनाए रखा और उन्हें जियाओ के खिलाफ अधिक पसीना नहीं बहाना पड़ा। दुनिया की सातवें नंबर की खिलाड़ी को एक बार फिर नेट पर आकर खेलने में परेशानी हुई लेकिन वह रैली में दबदबा बनाने में सफल रही। 

पेगासस जासूसी के आरोपों की जांच की सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट ने तय की तारीख

इसके अलावा भारतीय खिलाड़ी के क्रॉस कोर्ट स्मैश और ड्रॉप शॉट एक बार फिर दमदार रहे जिनका चीन की खिलाड़ी के पास कोई जवाब नहीं था। जियाओ को मूवमेंट में परेशानी हो रही थी जिसका सिंधू ने पूरा फायदा उठाया। युवा ओलंपिक खेलों की पूर्व स्वर्ण पदक विजेता जियाओ ने कई शॉट नेट पर उलझाए जबकि कई शॉट बाहर मारे। सिंधू ने मुकाबले की अच्छी शुरुआत की। उन्होंने जियाओ की धीमी शुरुआत का फायदा उठाकर 4-0 की बढ़त बनाई। भारतीय खिलाड़ी ने इसके बाद तीन शॉट नेट पर उलझाए और जियाओ ने शानदार रिटर्न शॉट की बदौलत अगले सात में से छह अंक जीतकर 6-5 से बढ़त बना ली।         दोनों खिलाडिय़ों के बीच अच्छा संघर्ष देखने को मिल रहा था। सिंधू ने लंबी रैली के बाद क्रॉस कोर्ट स्मैश से अंक जुटाया और फिर चीन की खिलाड़ी के रिटर्न लौटाने में नाकाम रहने पर ब्रेक तक 11-8 की बढ़त बना ली। 

सिंधू ने ब्रेक के बाद अपनी बढ़त को 14-8 और फिर 18-11 तक पहुंचाया। भारतीय खिलाड़ी ने नेट के पास रिटर्न से अंक जुटाकर 20-12 के स्कोर पर आठ गेम प्वाइंट हासिल किए। जियाओ ने एक गेम प्वाइंट बचाया लेकिन इसके बाद क्रॉस कोर्ट रिटर्न बाहर मार गईं जिससे सिंधू ने पहला गेम 23 मिनट में 21-13 से अपने नाम किया। दूसरे गेम में भी सिंधू ने अच्छी शुरुआत करते हुए 4-1 की बढ़त बनाई लेकिन इसके बाद चीन की खिलाड़ी को वापसी का मौका दे दिया। जियाओ ने स्कोर 7-8 किया। सिंधू हालांकि क्रॉस कोर्ट स्मैश के साथ ब्रेक तक तीन अंक की बढ़त बनाने में सफल रही। 

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता संबंधी सड़क हादसा मामला: कोर्ट ने CBI का जांच परिणाम बरकरार रखा 

ब्रेक के बाद सिंधू ने कुछ सहज गलतियां की। वह बिंगजियाओ के रिटर्न को लंबा समझकर छोड़ बैठी जबकि खुद लंबा रिटर्न किया जिससे जियाओ वापसी करते हुए स्कोर 11-11 से बराबर करने में सफल रही। भारतीय खिलाड़ी ने इसके बाद लगातार चार अंक के साथ 15-11 की बढ़त बना ली। सिंधू ने इसके बाद ङ्क्षबग जियाओ को वापसी का मौका नहीं दिया। सिंधू ने क्रॉस कोर्ट स्मैश के साथ 20-15 के स्कोर पर पांच मैच प्वाइंट हासिल किए और फिर एक और क्रॉस कोर्ट स्मैश के साथ मैच जीतकर कांस्य पदक अपने नाम कर लिया। 
 

comments

.
.
.
.
.