Friday, Dec 03, 2021
-->
questions on russia first corona vaccine health ministry scientist resigns prshnt

रूस की पहली कोरोना वैक्सीन पर उठ रहे सवाल, स्वास्थ्य मंत्रालय के वैज्ञानिक ने दिया इस्तीफा

  • Updated on 8/14/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दुनिया भर में कोरोना वायरस के प्रकोप से बचाव के लिए वैक्सीन की खोज जारी है। ऐसे में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पहले कोरोना वैक्सीन बनाने का दावा किया है। राष्ट्रपति पुतिन द्वारा कोरोना की पहली वैक्सीन बनाने की घोषणा के बाद रूस के वरिष्ठ श्वांस रोग विशेषज्ञ प्रो. एलेक्जेंडर चुचैलिन ने रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय की एथिक्स काउंसिल से इस्तीफा दे दिया है। जिसके पीछे का कारण बताया जा रहा है कि वह वैक्सीन का पंजीकरण रोक नहीं पाए।

प्राइवेट ट्रेनों के किराए पर रेगुलेटर बनाने से रेलवे का इनकार, कंपनियों की होगी बल्ले-बल्ले! 

रूस के वैसक्सीन पर उठते सवाल
दरअसल प्रोफेसर एलेग्जेंडर ने रूस द्वारा बनाई गई स्पूतनिक वी नाम की कोरोना वैकेसीन की सुरक्षा और अवसर पर कई सवाल उठा रहे हैं, इसके साथ ही वैक्सीन बनाने वाली संस्था  गमालेया रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक और रूस सेना में वरिष्ठ वायरोलॉजिस्ट कर्नल प्रो. सर्जी बोरिसेविक इस वैक्सीन पर सवाल उठाए गए हैं।

प्रोफेसर एलेग्जेंडर का कहना है कि इस वैक्सीन को बनाने के लिए सभी एकेडमिक्स और मांगों को दरकिनार किया गया और दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्सीन बनाने की घोषणा पृष्ठभूमि तैयार की गई।

POK में चीन के खिलाफ प्रदर्शन, रैली निकाल रहे लोगों ने लगाए ‘हमें जिंदा रहने दो’ के नारे'....

वैक्सीन को सही नही ठहराया जा सकता
प्रोफेसर एलेग्जेंडर ने वैक्सिंग को लेकर कई सवाल किए हैं और दोनों वैज्ञानिकों पर सवाल उठाए हैं कि उनसे पूछा है कि क्या आप लोगों ने कभी रूस के अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिक समुदाय द्वारा तैयार सांविधानिक कानून के मानक को पूरा किया है। 

उन्होंने बताया कि वैक्सीन बनाने में किसी भी तरह के मानक का पालन नहीं किया गया है, इससे यह कहना कि इस वैक्सीन को सही नही ठहराया जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.