Monday, Oct 22, 2018

#NewFarakkaExpress हादसे से जुड़े सभी Updates, देखें Photos

  • Updated on 10/10/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आज सुबह न्यू फरक्का एक्सप्रेस के नौ डिब्बे और इंजन पटरी से उतर गए। बुधवार सुबह की शुरुआत इस दुखद घटना से हुई जिसमें कम से कम सात लोगों की मौत हो गई जबकि करीब 35 यात्री घायल हो गए। ये एक्सप्रेस मालदा टाउन से नई दिल्ली जा रही थी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने हादसे की जांच के आदेश दिए हैं।

Navodayatimes

आतंकी साजिश!
यह दुर्घटना बुधवार की सुबह करीब छह बजे रायबरेली के निकट हरचन्दपुर के बाबापुर के करीब हुई। घायलों को हरचंदपुर पीएचसी में भर्ती कराया गया है। इनमें से नौ लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। दुर्घटना में किसी आतंकी साजिश के पहलू की जांच के लिए एटीएस की टीम भी मौके पर भेजी गई है।

Navodayatimes

हेल्पलाइन नंबर
जनसंपर्क अधिकारी विक्रम सिंह के अनुसार वाराणसी हेल्पलाइन नंबर 0542 2503814, लखनऊ हेल्पलाइन नंबर 9794830975, 9794830973, प्रतापगढ़ हेल्पलाइन नंबर 05342 220492 और रायबरेली के लिए हेल्पलाइन नंबर 0535 2213154 है। हादसे के कारण इस मार्ग की सभी अप और डाउन लाइनों पर यातायात बाधित है। उत्तर रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी विक्रम सिंह ने बताया कि दुर्घटना के कारण 13 ट्रेनों के मार्ग में परिवर्तन किया गया है।

Navodayatimes

मुआवजा
यात्रियों को फिलहाल लखनऊ भेजा जा रहा है जहां से उन्हें विशेष ट्रेन से दिल्ली भेजा जाएगा। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस दुर्घटना पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए मृतकों के परिजन को दो-दो लाख रुपये जबकि घायलों को 50- 50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है।

Navodayatimes

रेल मंत्री ने लिया एक्शन
इस घटना पर पीएम मोदी सहित देश के कई नेताओं ने दुख जताया। हादसे पर शोक जताते हुए रेल मंत्री ने उत्तरी र्सिकल के रेल सुरक्षा आयोग से दुर्घटना की जांच कराने के आदेश दिए हैं। रेलवे प्रशासन के साथ लगातार संपर्क में हैं। उन्होंने प्रभावी तरीके से राहत एवं बचाव कार्य करने तथा घायलों को सर्वोत्तम संभव इलाज मुहैया कराने को कहा है। साथ ही ड्रोन से इस घटना की जांच की गई।

Navodayatimes

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.