Thursday, Jan 23, 2020
rahul dravid birthday birthday special the wall records

B'day SPL: ऐसे ही नहीं कहे जाते भारतीय क्रिकेट के 'The Wall', जानें कुछ अनोखे रिकॉर्ड्स

  • Updated on 1/11/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। क्रिकेट (Cricket) में दिलचस्पी व क्रिकेट का ज्ञान रखने वाले लोग टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) की महत्ता को बखूबी जानते होंगे। कहा भी जाता है कि अगर किसी क्रिकेटर (Cricketer) की महानता का आकलन करना हो तो उनके टेस्ट करियर का आंकड़ा देखें। एक दिवसीय क्रिकेट (ODI) और टी20 क्रिकेट (T20 Cricket) तो आधुनिकता का भाग है। क्रिकेट में अधिकतर लोग उसी क्रिकेटर को याद रखते हैं जो लम्बे-लम्बे छक्के मारता है और उड़ता हुआ कैच पकड़ता है।

CAA विवाद में कूदे टीम इंडिया के कोच, मच सकता है हंगामा

मशहूर क्रिकेटर राहुल द्रविड़
लेकिन भारत में एक ऐसा क्रिकेटर (Cricketer) भी हुआ जिसने अपने काबिलियत के दम पर टेस्ट क्रिकेट में नाम ही नहीं कमाया बल्कि दुनिया (World) में अपनी एक अलग छाप छोड़ी। टीम इंडिया के 'मिस्टर रिलायबल' और 'दीवार' राहुल द्रविड़ का नाम दुनिया के महान क्रिकेटरों की श्रेणी में गिना जाता है। उनकी महानता का आकलन इसी से लगाया जा सकता है कि जब भी वो क्रीज पर बैटिंग के लिए आते थे तो मैदान पर मौजूद हर गेंदबाज का सपना होता था कि उनके सामने गेंदबाजी कर उनका विकेट झटके।

कर्नाटक के इस महान बल्लेबाज व विकेटकीपर आज अपना 47वां जन्मदिन मना रहे हैं, आइए जानते हैं उनके जन्मदिवस पर उनके कुछ अनोखे रिकॉर्ड्स... 

1. राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) के नाम टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) खेलने वाली सभी टीमों के खिलाफ शतक ठोकने का अनोखा रिकॉर्ड दर्ज है। क्रिकेट के जेंटलमैन कहे जाने वाले द्रविड़ को मुश्किल से मुश्किल परिस्थियों में भी विरोधी टीम के सामने दीवार की तरह खड़े होकर मैच जिताने वाले खिलाड़ियों के रूप में जाना जाता हैं।

2. द्रविड़ का डिफेंस इतना मजबूत था कि उनके विकेट को हासिल करना दुनिया के तमाम मशहूर गेंदबाजों की चाहत हुआ करती थी। तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए द्रविड़ ने टेस्ट और वन-डे, दोनों में ऐसी पारियां खेलीं, जो उनके करियर के लिहाज से मील का पत्थर साबित हुई।

IND vs SL 3rd T20I: तीसरे टी20 से पहले भारत के सामने रहेगी चयन की दुविधा

3. उन्होंने साल 2003 ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में 233 रन और 2004 में पाकिस्तान (Pakistan) के खिलाफ रावलपिंडी में 270 रन की बेहतरीन पारी खेली। इन दोनों टेस्ट में टीम इंडिया (Team India) को जीत दिलाने में द्रविड़ के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। उनके नाम भारतीय क्रिकेट इतिहास में सबसे ज्यादा साढ़े बारह घंटे की मैराथन पारी खेलने का रिकॉर्ड भी दर्ज है।

Rahul Dravid

4. अपने डेब्यू वन-डे (One day) मैच में द्रविड़ कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर पाए। उन्होंने 3 अप्रैल 1996 को श्रीलंका के खिलाफ सिंगर कप में डेब्यू किया था। इस मैच में उन्होंने कुल 3 रन बनाए थे। हालांकि, अगले मैच में भी उनका प्रदर्शन खराब ही रहा और पाकिस्तान के खिलाफ उन्होंने कुल 4 रन बनाए थे।

विश्व टी20 टीम में हैरान करने वाला खिलाड़ी हो सकता है शामिल- कोहली

5. राहुल द्रविड़ ने 164 टेस्ट में उन्होंने 52.31 की औसत से 13288 रन बनाए, जिसमें 36 शतक और 63 अर्धशतक शामिल रहे। इसी तरह 344 वन-डे मैचों में द्रविड़ ने 39.16 की औसत से 10889 रन बनाए, जिसमें 12 शतक और 83 अर्धशतक शामिल हैं। इतना ही नहीं द्रविड़ को स्लिप का बेहतरीन फिल्डरों में भी शुमार किया जाता था।

6. साल 2000 में विजडन क्रिकेटर्स ने उन्हें साल के टॉप 5 क्रिकेटर्स में शुमार किया था। 2004 में उन्होंने आईसीसी का बेस्ट टेस्ट क्रिकेटर का अवॉर्ड भी अपने नाम किया था। दिसंबर 2011 में वह पहले गैर ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर बने, जिन्हें कैनबरा में ब्रैडमैन ओरेशन दिया गया था। द्रविड़ को अर्जुन अवार्ड (Arjun Award), पद्म श्री और पद्म भूषण जैसे सम्मानों से भी नवाजा जा चुका है।

comments

.
.
.
.
.