Tuesday, Aug 03, 2021
-->
rahul-even-those-who-do-not-have-access-to-internet-should-get-the-facility-of-vaccine-prshnt

वैक्सीन के लिए ऑनलाइन रजिसंट्रेशन पर बोले राहुल, इंटरनेट तक पहुंच नहीं होने वालों को भी मिले सुविधा

  • Updated on 6/10/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कोविड-19 रोधी टीकाकरण के लिए सिर्फ ऑनलाइन पंजीकरण होने पर सवाल खड़े करते हुए गुरुवार को कहा कि जिनके पास इंटरनेट की सुविधा नहीं है, उन्हें भी टीका लगना चाहिए। उन्होंने ट्वीट किया, टीके के लिए सिफऱ् ऑनलाइन पंजीकरण काफी नहीं है। टीकाकरण केंद्र पर पहुंचने वाले हर व्यक्ति को टीका मिलना चाहिए। जीवन का अधिकार उनका भी है जिनके पास इंटरनेट की सुविधा नहीं है।

देश में तेजी से बढ़ रहा ब्लैक फंगस, आंध्र प्रदेश में अब तक 1955 मामले,114 की मौत

पंजीकरण की अनिवार्यता को लेकर सवाल
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने भी पिछले दिनों ‘को-विन’ पंजीकरण की अनिवार्यता को लेकर सवाल किया था। उन्होंने कहा था, हमने कई बार कहा कि यह अनिवार्य नहीं होना चाहिए क्योंकि देश में बहुत सारे लोगों के पास इंटरनेट की सुविधा नहीं है। सरकार ने मांग सुनी, लेकिन पूरी नहीं सुनी। अभी सरकारी अस्पतालों में पंजीकरण अनिवार्य नहीं है, लेकिन निजी अस्पताल के लिए है। हम फिर से कहना चाहते हैं कि सभी जगह को-विन पंजीकरण अनिवार्य नहीं होना चाहिए।

महाराष्ट्र में तेज बारिश, सिंधुदुर्ग, रत्नागिरी, पालघर और रायगढ़ जिलों में भेजी गई NDRF की टीमें

स्थानीय भाषाओं पर राहुल गांधी
इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने स्थानीय भाषाओं की शक्ति की सराहना करते हुए बुधवार को कहा कि इनको संरक्षण दिए जाने की जरूरत है। उन्होंने यह टिप्पणी उस खबर का हवाला देते हुए की है जिसमें कहा गया है कि महाराष्ट्र में आदवासियों के बीच कोविड के टीकाकरण को लेकर बनी भ्रम की स्थिति को स्थानीय कोरकू भाषा की मदद से खत्म किया जा रहा है।

कांग्रेस नेता ने इस खबर को साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘मेलघाट के जंगलों की यह कहानी स्थानीय भाषाओं की शक्ति को साबित करती है। इनमें से हर भाषा को संरक्षित करने की जरूरत है।

मुंबई में 4 मंजिला इमारत ढही, हादसे में 11 की मौत, 9 घायल

किसान आंदोलन पर ट्वीट
इससे पहले पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि किसान आंदोलन के दौरान 500 किसानों की मौत होने के दावे वाले हैशटैग के साथ ट्वीट किया, खेत-देश की रक्षा में तिल-तिल मरे हैं किसान, पर ना डरे हैं किसान, आज भी खरे हैं किसान।

इसी बीच इसी बीच राहुल गांधी ने तीनों कृषि कानूनों पर कहा कि इनको निरस्त करना ही किसान आंदोलन के मुद्दे का एकमात्र समाधान है। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि किसान आंदोलन के दौरान 500 किसानों की मौत होने के दावे वाले हैशटैग के साथ ट्वीट किया, खेत-देश की रक्षा में तिल-तिल मरे हैं किसान, पर ना डरे हैं किसान, आज भी खरे हैं किसान।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.