Tuesday, Dec 07, 2021
-->
rahul gandhi attacks modi bjp government over demonetisation monetization rkdsnt

राहुल गांधी बोले- प्रधानमंत्री मोदी के चार-पांच मित्रों का हो रहा है मौद्रिकरण

  • Updated on 9/1/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने विमुद्रीकरण और मौद्रिकरण को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि किसानों, श्रमिकों, छोटे कारोबारियों, एमएसएमई, नौकरीपेशा वर्ग का विमुद्रीकरण किया जा रहा है, प्रधानमंत्री मोदी के चार-पांच मित्रों का मौद्रिकरण किया जा रहा है। 

कांग्रेस सांसद राहुल ने कहा, 'पिछले 7 साल से हमने एक नया आर्थिक पैराडाइन देखा है; प्रधानमंत्री जी कहते हैं कि मैं डी-मोनेटाइजेशनन कर रहा हूँ और वित्त मंत्री जी कहती हैं कि मैं मोनेटाइजेशन कर रही हूँ; जनता जानना चाहती है कि किसका डी-मोनेटाइजेशन और मोनेटाइजेशन हो रहा है?'

AAP ने किया यूपी की सभी 403 सीटों पर अपने बलबूते चुनाव लड़ने का ऐलान

राकेश अस्थाना की नियुक्ति पर सुनवाई करेगा हाई कोर्ट, प्रशांत भूषण ने भी लगाई याचिका

गैस, डीजल और पेट्रोल के बढ़ते दामों को लेकर भी राहुल ने तल्ख तेवर अपनाए। उन्होंने कहा, सरकार ने बीते सात सालों में गैस, डीजल और पेट्रोल के दाम बढ़ाकर 23 लाख करोड़ रुपये अर्जित किए हैं। जीडीपी की एक नई अवधारणा है, बढ़ती जीडीपी का मतलब गैस, डीजल और पेट्रोल के दामों में बढ़ोतरी है। 

अखिलेश यादव बोले- देश की संपत्ति को निजी हाथों में सौंपने की साजिश में जुटी है भाजपा 

उन्होंने कहा कि पेट्रोल 2014 में संप्रग सरकार के समय 71.5 रुपये प्रतिलीटर था, अब यह 101 रुपये है, डीजल 57 रुपये प्रतिलीटर से बढ़कर 88 रुपये प्रतिलीटर हो गया है। पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की अंतरराष्ट्रीय कीमतें 2014 से नीचे हैं लेकिन भारत में दाम बढ़ रहे हैं। एलपीजी गैस का दाम 2014 में संप्रग के सत्ता में रहने के दौरान 410 रुपये प्रति सिलेंडर था, अब यह 885 रुपये है। 

उन्होंने कहा, 'पेट्रोल और डीजल का अर्थव्यवस्था के हर भाग में कहीं न कहीं इनपुट होता है, जब पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ते हैं तो एक डायरेक्ट चोट लगती है और एक इनडायरेक्ट चोट लगती है।'  राहुल ने कहा, 'हिन्दुस्तान की संपत्ति को बेचा जा रहा है, डी-मोनेटाइजेशन किया जा रहा है,  किसान के लिए बने तीन कानूनों से आपका पैसा छीना जा रहा है, इसलिए हिन्दुस्तान के युवाओं को, जनता को यह सवाल पूछना चाहिए कि यह पैसा आखिर किसे मिल रहा है?  मेरा सवाल यह है कि ये 23 लाख करोड़ रूपए कहां गए? जनता को यह पूछना चाहिए कि आपकी जेब से जो पैसा निकाला जा रहा है, वह कहाँ जा रहा है? 

सूरज पाल अमू, नरसिंहानंद के खिलाफ FIR दर्ज करने को लेकर कोर्ट ने मांगी एक्शन रिपोर्ट

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.