Wednesday, Dec 07, 2022
-->
rahul gandhi congress press conference here are 7 big points on coronavirus lockdown rkdsnt

कोरोना लॉकडाउन के बीच राहुल गांधी की प्रेस कांफ्रेंस के ये हैं 7 खास बिदुं

  • Updated on 4/16/2020

नई दिल्ली/शेषमणि शुक्ल। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि आज वक्त मोदी से लड़ने या आलोचना करने का नहीं, कोरोना वायरस से लड़ने का है। उन्होंने कहा कि देश के हालात इमरजेंसी जैसे हैं, इस महामारी से सभी को एकजुट होकर लड़ने की जरूरत है। उन्होंने उम्मीद जताई कि भारत कोरोना पर विजय हासिल करेगा। केरल के वायनाड से कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए वीरवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में सवालों के बेबाक तरीके से जवाब दिए। पेश हैं प्रेस कांफ्रेंस के 10 बड़े बिंदु:- 

तब्लीगी जमात के मुखिया मौलाना साद के खिलाफ ED ने दायर किया मनी लॉन्ड्रिंग का केस

तू-तू, मैं-मैं का वक्त नहीं
राहुल गांधी ने कहा कि मैं कई मुद्दों पर मोदी से असहमत हो सकता हूं, लेकिन अभी तू-तू, मैं-मैं का वक्त नहीं है। यह वक्त कोरोना से एकजुट होकर लड़ने का है और ऐसा किया तो कोरोना पर जीत निश्चित है। उन्होंने कहा कि एक बार देश कोविड-19 को हरा ले, उसके बाद बताऊंगा कि सरकार से कहां गलती हुई। राहुल से पूछा गया था कि कोरोना को लेकर मोदी सरकार से कहां गलती हुई। 

कोरोना कहर : CSR पर फैले भ्रम को लेकर ममता सरकार ने लगाई मोदी सरकार से गुहार

कोरोना का इलाज लॉकडाउन नहीं 
राहुल ने कहा कि लॉकडाउन कोरोना का इलाज नहीं है, यह केवल रोकथाम और इलाज की तैयारियां करने और रणनीति बनाने के लिए वक्त देता है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन खत्म होने के बाद कोरोना संक्रमण तेजी से फैलेगा, इसलिए कमजोर तरीके न अपनाकर विस्तृत रणनीति के साथ काम करना होगा।

भारत को मिलीं 5 लाख कोरोना टेस्टिंग किट्स, द. कोरिया से भी मिलने की उम्मीद


कोरोना से दो मोर्चों पर लड़ाई 
कांग्रेस नेता ने कहा कि कोरोना से दो मोर्चों पर लड़ाई चल रही है। एक हेल्थ के मोर्चे पर और दूसरा आर्थिक मोर्चे पर। इसके साथ ही लोगों को खाद्यान्न मुहैया कराना होगा। उन्होंने कहा कि हेल्थ के मोर्चे पर सरकार को सैंपल टेस्टिंग को बढ़ाने की जरूरत है। जितने ज्यादा सैंपल टेस्टिंग होंगे, उतना ही इस महामारी से निपटने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा टेस्टिंग पर अभी पॉज बटन की स्थिति है। वहीं आर्थिक मोर्चे पर चुनौतियां बढ़ने वाली हैं। लोगों के काम छिन गए हैं। बेरोजगारी शुरू हो चुकी है। आने वाले दिनों में यह और विकराल रूप लेगा। 

बबीता फोगाट के निशाने पर फिर आए तबलीगी जमाती, सोशल मीडिया पर हुईं ट्रोल

केजरीवाल सरकार दिल्ली में अब प्लाज्मा तकनीक से करेगी कोरोना मरीज का इलाज

हमारे पास अनाज की कमी नहीं 
सरकार को चाहिए कि सर्वाधिक रोजगार देने वाले छोटे, मझोले और मध्यम उद्योगों के लिए पैकेज तैयार करे। बड़े उद्योगों, कंपनियों के लिए पैकेज तैयार करे। राहुल ने कहा कि हमारे पास अनाज की कमी नहीं है। गोदाम भरे पड़े हैं, लेकिन लोगों तक पहुंच नहीं रहा है। सरकार को इस पर ध्यान देना होगा। जिनके पास राशनकार्ड नहीं हैं, उन्हें भी मुफ्त राशन देना होगा। 

कोरोना लॉकडाउन पर महुआ मोइत्रा ने निर्मला सीतारमण को दिया Quick Math Lesson

गरीबों के खातों में सीधे नगद राशि 
न्याय योजना के तहत गरीबों के खातों में सीधे नगद राशि डाली जाए। उन्होंने कहा कि हमें क्रेडिट लेने की इच्छा नहीं है। हम चाहते हैं कि देश की जनता की मदद हो, इसलिए अगर सरकार न्याय योजना का नाम बदल कर भी लोगों की मदद करना चाहे तो करे।

कंगना रनौत की बहन रंगोली का टि्वटर अकाउंट सस्पेंड, किया था भड़काऊ ट्वीट


 

राहुल गांधी ने आपातकाल राशन कार्ड के साथ मिडिल ईस्ट में फंसे भारतीयों का मुद्दा उठाया

बिना पूरी तैयारी के लॉकडाउन हटा तो... 
राहुल ने कहा कि बिना पूरी तैयारी के लॉकडाउन हटाया गया तो हालात बिगड़ सकते हैं। सरकार को हालात का आंकलन करके विस्तृत रणनीति बनाने की जरूरत है। इस बारे में सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों, स्थानीय प्रशासन के साथ खुल कर बात करने की जरूरत है। अस्पतालों की क्या तैयारी है, वेंटीलेटर, टेस्टिंग सुविधा कैसी है और कंटीजेंसी प्लान क्या होगा, इन सब पर विस्तृत तैयारी करनी होगी।

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.