Wednesday, Jan 19, 2022
-->
rahul gandhi on baba ram singh death says modi govt brutality has exceeded pragnt

बाबा राम सिंह की मौत पर राहुल गांधी ने जताया दुख, कहा- मोदी सरकार क्रूरता ने की हद पार

  • Updated on 12/17/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटिल। केंद्र सरकार (Central Government) द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसानों का आंदोलन आज 22वें दिन भी जारी है। इस बीच सोनीपत के कुंडली बॉर्डर पर आंदोलन में शामिल किसान संत बाबा रामसिंह (Sant Baba Ram Singh) ने खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। संत बाबा राम सिंह के मौत पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने दुख जताया है।

कांग्रेस ने रसोई गैस की कीमत में बढ़ोतरी को लेकर मोदी सरकार पर साधा निशाना

राहुल गांधी ने जताया दुख
कांग्रेस (Congress) ने दिल्ली के निकट किसानों के विरोध प्रदर्शन वाले स्थान के करीब सिख संत बाबा राम सिंह के कथित तौर पर खुदकुशी करने को लेकर सरकार पर निशाना साधा और कहा कि उसे अपनी जिद छोड़कर तत्काल 'कृषि विरोधी' कानूनों को वापस लेना चाहिए। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट किया, 'करनाल के संत बाबा राम सिंह जी ने किसानों की दुर्दशा देखकर आत्महत्या कर ली। इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं और श्रद्धांजलि।'

राहुल गांधी ने रक्षा मामलों की संसदीय समिति का किया बहिष्कार, मोदी सरकार पर लगाए आरोप

कांग्रेस ने कहा- मोदी सरकार की क्रूरता का परिणाम
उन्होंने कहा, 'कई किसान अपने जीवन की आहुति दे चुके हैं। मोदी सरकार की क्रूरता हर हद पार कर चुकी है। ज़िद छोड़ो और तुरंत कृषि विरोधी क़ानून वापस लो!' कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) ने कहा, 'हे राम, यह कैसा समय ! ये कौन सा युग !! जहां संत भी व्यथित हैं। संत राम सिंह जी सिंगड़े वाले ने किसानों की व्यथा देखकर अपने प्राणों की आहुति दे दी। ये दिल झकझोर देने वाली घटना है। प्रभु उनकी आत्मा को शांति दे।' उन्होंने आरोप लगाया, 'संत की मृत्यु, मोदी सरकार की क्रूरता का परिणाम है।'

शुभेंदु के इस्तीफे से खफा ममता ने कहा- 'पार्टी एक बरगद है, एक-दो के चले जाने से फर्क नहीं पड़ता'

बता दें कि रामसिंह करनाल के पास नानकसर गुरुद्वारा साहिब से ताल्लुक रखते थे। बता दें कि उन्होंने बाकायदा सूसाइड नोट छोड़ा है। जब पहले आए थे तब दुख के साथ कुछ लिखा था, लेकिन मरने से पहले उन्होंने दूसरी चिटठी लिखी। 

किसान और सरकार के बीच की लड़ाई अब SC में, आज फिर होगी सुनवाई

सिंगड़ा वाले बाबा जी के नाम से प्रसिद्ध थे
किसानों के समर्थन में खुद को गोली मारने वाले संत बाबा रामसिंह सिंगड़ा वाले बाबा जी के नाम से प्रसिद्ध थे। बाबा किसानों की समस्याओँ से काफी आहत थे।  उन्होंने लिखा, 'किसानों का दुख देखा है अपने हक के लिए सड़कों पर उन्हें देखकर मुझे दुख हुआ है। सरकार इन्हें न्याय नहीं दे रही है जो कि जुल्म है जो जुल्म करता है वह पापी है जुल्म सहना भी पाप है किसी ने किसानों के हक के लिए तो किसी ने जुल्म के खिलाफ कुछ किया है।'

किसान आंदोलन पर शिवसेना बोली- पीएम मोदी चाहें तो 5 मिनट में निकल सकता है हल

बाबा ने सूसाइड नोट में लिखा
उन्होंने आगे लिखा, 'किसी ने पुरस्कार वापस करके अपना गुस्सा जताया है किसानों के हक के लिए, सरकारी जुल्म के गुस्से के बीच सेवादार आत्मदाह करता है यह जुल्म के खिलाफ आवाज है यह किसानों के हक के लिए आवाज है वाहे गुरु जी का खालसा, वाहे गुरुजी की फतेह।'

किसानों की दुर्दशा से निराश संत बाबा राम सिंह ने खुदकुशी, छोड़ा सुसाइड नोट

सोनीपत पुलिस ने कही ये बात
इस पूरे घटनाक्रम पर सोनीपत पुलिस ने आधिकारिक बयान जारी कर कहा है कि करनाल के गांव सिंगरा के गुरुद्वारा संचालक संतराम ने खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली है। उनके शव का करनाल के कल्पना चावला हॉस्पिटल में पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है, साथ ही पूरे मामले की जांच की जारी है।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.