Friday, Sep 30, 2022
-->
rahul gandhi raises questions about delay in cag report by modi bjp govt rkdsnt

राहुल गांधी ने कैग की रिपोर्ट में ‘विलंब’ को लेकर उठाए सवाल

  • Updated on 3/10/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट में कथित तौर पर विलंब का मुद्दा बुधवार को उठाया और सोशल मीडिया पर एक तालिका साझा करते हुए ‘केज्ड’ (पिंजरे में बंद) शब्द का इस्तेमाल किया। गांधी ने ट्विटर पर अपनी पोस्ट में तालिका साझा की जिसमें 2011-12 से रिपोर्ट तैयार करने में कैग की ओर से लिए गए समय का उल्लेख किया गया है। 

मोदी सरकार ने किया साफ- जाति आधारित जनगणना के आंकड़े जारी करने का अभी प्रस्ताव नहीं

कांग्रेस नेता ने जो तालिका साझा की उसमें यह भी दर्शाया गया है कि वित्त वर्ष 2017-18 और 2018-19 में कैग की रिपोर्ट में 18-24 महीने का समय लगा या वे फिर वे लंबित हैं। उन्होंने कहा, ‘‘केज्ड।’’ एक खबर में कहा गया है कि आरटीआई के तहत प्राप्त की गई जानकारी के मुताबिक, साल 2015 से 2020 के बीच कैग की रिपोर्ट में 75 फीसदी की गिरावट आई है। साल 2015 में कैग ने 55 रिपोट््र्स पेश की थी, लेकिन 2020 तक इसकी संख्या घटकर महज 14 रह गई है।

केजरीवाल ने सुझाए जनता की सेवा के लिए ‘राम राज्य’ से प्रेरित 10 सिद्धांत

कांग्रेस में कोई गुटबाजी नहीं हैं : आनंद शर्मा
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने ‘ग्रुप 23’ से जुड़े विवाद और पार्टी में गुटबाजी के आरोपों की पृष्ठभूमि में बुधवार को कहा कि कांग्रेस में कोई अलग अलग गुट नहीं हैं तथा पूरी पार्टी सोनिया गांधी की अध्यक्षता में एकजुट है। शर्मा की इस टिप्पणी का इस संदर्भ में खासा महत्व है कि वह उस ‘ग्रुप 23’ में शामिल हैं जिसने कांग्रेस में व्यापक संगठनात्मक बदलाव और सक्रिय अध्यक्ष की मांग को लेकर पिछले साल सोनिया गांधी को पत्र लिखा था। 

चाको का कांग्रेस से इस्तीफा, खेड़ा बोले- बहुत देर कर दी हुजूर जाते जाते

उन्होंने पार्टी में गुटबाजी से संबंधित पी सी चाको के आरोपों से जुड़े सवाल पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘ऐतिहासिक रूप से कांग्रेस में आंतरिक चर्चा की परंपरा पुरानी है...यह परंपरा आज भी जारी है। कांग्रेस में कोई गुटबाजी नहीं है। कांग्रेस एक है और इसकी अध्यक्ष सोनिया गांधी हैं।’’ 

मायावती बोलीं- भाजपा अगर ताकतवर है तो इसके लिए कांग्रेस जिम्मेदार

उन्होंने कहा, ‘‘फिलहाल एक ही लक्ष्य है कि आगामी चुनावों में भाजपा और दूसरे विरोधियों को हराया जाए। ऐसी कोई धारणा नहीं बननी चाहिए कि कांग्रेस एकजुट होकर इन चुनावों को नहीं लड़ेगी।’’ शर्मा के इस बयान से कुछ दिनों पहले ‘ग्रुप 23’ में शामिल एक और वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने भी कहा था कि वह और उनके साथी आगामी चुनावों में पार्टी के लिए प्रचार करेंगे तथा कांग्रेस को जीत दिलाना उनकी शीर्ष प्राथमिकता है।     

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

 

  •  
comments

.
.
.
.
.