Thursday, Feb 25, 2021
-->
rahul-gandhi-said-income-to-be-as-much-as-the-punjabi-farmer-djsgnt

राहुल गांधी ने कहा- किसान चाहता है कि उसकी आय पंजाबी किसान जितनी हो जाए, लेकिन...

  • Updated on 12/11/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ कई किसान संगठनों के विरोध प्रदर्शन की पृष्ठभूमि में शुक्रवार को दावा किया कि देश के कृषक पंजाब (Punjab) के किसानों के बराबर आय चाहते हैं, लेकिन केंद्र सरकार (Union Government) उनकी आय बिहार के किसानों के बराबर करना चाहती है।

'पंजाब के किसान जैसी हो आय'
उन्होंने विभिन्न प्रदेशों में प्रति किसान औसत आय से जुड़ा एक ग्राफ साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘किसान चाहता है कि उसकी आय पंजाब के किसान जितनी हो जाए। मोदी सरकार चाहती है कि देश के सब किसानों की आय बिहार के किसान जितनी हो जाए।’

AAP का दावा- किसानों से मिलने के बाद पुलिस ने CM केजरीवाल को किया नजरबंद

पंजाब के किसान की आय सबसे अधिक
कांग्रेस नेता ने जो ग्राफ साझा किया उसके मुताबिक, पंजाब में प्रति किसान औसत आय 2,16 ,708 रुपये (वार्षिक) है जो देश में सबसे ज्यादा है। इस ग्राफ में यह भी दर्शाया गया है कि बिहार में प्रति किसान औसत आय 42,684 रुपये (वार्षिक) है जो देश के कई राज्यों के मुकाबले बहुत कम है।

CM केजरीवाल ने दिया किसानों को समर्थन तो घबराई BJP, किया नजरबंद- सिसोदिया

दिल्ली बॉर्डर पर बैठे किसान
गौरतलब है कि नए कृषि कानून (New farm laws) के विरोध में किसान लगातार 15 दिन से दिल्ली के विभिन्न बॉर्डरों पर धरना दिए बैठे हैं। ये किसान नए कृषि कानून को रद्द करने की मांग पर अड़े हैं और सरकार द्वारा दिए गए लिखित प्रस्ताव को भी ठुकरा चुके हैं और अब आंदोलन को और तेज करने का ऐलान कर दिया है। 

तो वहीँ, किसान आंदोलन में नए कृषि कानून के बाद उसमें पराली से लेकर बिजली संशोधन विधेयक तक सब कुछ जोड़ दिया गया है। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा कि किसानों को भ्रमित किया जा रहा है। यह भी तय है कि इन आंदोलन की आड़ में कहीं राजनीतिक दल तो कहीं बिजलीकर्मी अपना हित साध रहे हैं।

ये भी पढ़ें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.