Wednesday, Feb 01, 2023
-->
rahul gandhi statement tampering case supreme court agrees hear petition of zee news tv anchor

राहुल गांधी के बयान से छेड़छाड़ का मामला : टीवी एंकर की याचिका पर सुनवाई को राजी सुप्रीम कोर्ट

  • Updated on 7/6/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बयान को गलत संदर्भ में दिखाते हुए एक समाचार प्रसारित करने के लिए कुछ राज्यों में प्राथमिकियों का सामना कर रहे टेलीविजन समाचार प्रस्तोता रोहित रंजन की एक याचिका पर उच्चतम न्यायालय बृहस्पतिवार को सुनवाई करने के लिये तैयार हो गया है। रंजन ने याचिका में कथित अपराध के लिये दंडात्मक कार्रवाई से संरक्षण की मांग की है।  टीवी प्रस्तोता की ओर से पेश वरिष्ठ वकील सिद्धार्थ लूथरा ने छेड़छाड़ की गयी वीडियो क्लिप के प्रसारण के लिए कई राज्यों में उनके खिलाफ प्राथमिकियां दर्ज किए जाने के बाद याचिका पर तत्काल सुनवाई का अनुरोध किया।  इस पर न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और न्यायमूर्ति जे के माहेश्वरी की अवकाशकालीन पीठ ने कहा, ‘‘इसे कल के लिए सूचीबद्ध कीजिए।’’     

नकवी, सिंह के इस्तीफे के बाद ईरानी बनीं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री, सिंधिया को मिला नया मंत्रालय

लूथरा ने कहा, ‘‘इस शख्स को नोएडा में कल उत्तर प्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार किया और जमानत पर रिहा कर दिया गया क्योंकि अपराध जमानती था।’’  उन्होंने कहा कि समाचार प्रस्तोता ने एक कार्यक्रम में गलती की थी और उसके लिए माफी मांग ली थी तथा खबर वापस ले ली गयी थी। उन्होंने कहा, ‘‘अब छत्तीसगढ़ पुलिस उन्हें गिरफ्तार करना चाहती है। कृपया इस पर तत्काल सुनवाई कीजिए, अन्यथा उन्हें बार-बार हिरासत में लिया जाएगा।’’  

जस्टिस संदेश को धमकी को लेकर कांग्रेस ने कहा- न्यायपालिका पर ‘‘हताशापूर्ण हमला’’ कर रही है BJP

गौरतलब है कि मंगलवार को छत्तीसगढ़ पुलिस का एक दल रोहित रंजन को उनके घर से गिरफ्तार करने के लिए उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद पहुंचा था लेकिन उन्हें नोएडा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और रात में कामानत पर रिहा कर दिया।  नोएडा पुलिस के एक अधिकारी ने अपनी पहचान गोपनीय रखे जाने की शर्त पर कहा, ‘‘एक जुलाई को रंजन के शो के दौरान प्रसारित हुए छेड़छाड़ वाले वीडियो को लेकर उनके ही चैनल द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के आधार पर भारतीय दंड संहिता की धारा 505 (सार्वजनिक शरारत करना) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई थी। इसी प्राथमिकी के संबंध में नोएडा सेक्टर-20 थाने के एक दल ने उन्हें मंगलवार सुबह पूछताछ के लिए उनके घर से हिरासत में लिया।’’

गोवा में पंचायत चुनाव के आदेश में दखल देने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि कांग्रेस विधायक देवेंद्र यादव की शिकायत पर रविवार को रंजन और जी न्यूज के अन्य कर्मिय़ों के खिलाफ विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने और लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में मामला दर्ज किया गया था। यादव ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि जिस वीडियो में राहुल ने उनके वायनाड कार्यालय में तोड़-फोड़ करने वालों को बच्चे बताया था और कहा था कि उनके मन में उनके लिए कोई दुर्भावना नहीं है, उसे टीवी चैनल ने एक जुलाई को ‘‘शरारतपूर्ण ढंग से’’ इस्तेमाल किया और इस तरह से दिखाया कि राहुल उदयपुर में दर्जी कन्हैया लाल के हत्यारों को माफ करने की बात कर रहे हैं।

शिंदे गुट के विधायक का दावा -शिवसेना के 12 सांसद हमारे गुट में शामिल होंगे

 

रायपुर में भारतीय दंड संहिता की धारा 153ए (दो अलग-अलग वर्गों में दुश्मनी को बढ़ावा देना), 295ए (किसी भी वर्ग की धार्मिक भावनाओं को आहत करने के इरादे से जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कार्य करना), 467 (जालसाकाी), 469 (प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के लिए जालसाकाी) और 504 (जानबूझकर अपमान करना) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। इससे पहले, रंजन ने अपने टीवी कार्यक्रम में गांधी के बयान को ‘‘गलत संदर्भ में’’ उदयपुर हत्याकांड से ‘‘गलती से’’ जोड़कर दिखाने के लिए दो जुलाई को माफी मांगी थी। इससे एक दिन पहले कार्यक्रम प्रसारित किया गया था। रंजन ने ट्वीट किया था, ‘‘हमारे शो डीएनए में राहुल गांधी का बयान उदयपुर की घटना से जोड़कर गलत संदर्भ में चल गया था। यह एक मानवीय भूल थी, जिसके लिए हमारी टीम क्षमाप्रार्थी है। हम इसके लिए खेद जताते हैं।’’     

एंकर ‘फरार’ : रायपुर पुलिस का दावा 
समाचार चैनल जी न्यूज के प्रस्तोता रोहित रंजन की गिरफ्तारी को लेकर उत्तर प्रदेश की पुलिस के साथ टकराव के दूसरे दिन रायपुर पुलिस बुधवार को एक बार फिर रंजन के घर पहुंची लेकिन वह वहां नहीं मिले। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक पुलिस ने रंजन का फरारी पंचनामा तैयार किया है। रायपुर जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल ने बताया, च्च्रायपुर का पुलिस दल आज सुबह करीब नौ बजे रोहित रंजन के गाजियाबाद स्थित निवास पर पहुंचा। घर में ताला लगाकर फरार पाए जाने से आरोपी का फरारी पंचनामा तैयार किया गया है। अन्य संभावित स्थानों पर आरोपी की तलाश की जा रही है।’’ रायपुर जिले के पुलिस अधिकारियों के मुताबिक कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बयान को‘‘गलत संदर्भ‘’में दिखाने के मामले में रंजन के खिलाफ रायपुर में प्राथमिकी दर्ज की गई है।      कांग्रेस शासित राज्य छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले की पुलिस मंगलवार तड़के पत्रकार रंजन को गिरफ्तार करने उनके इंदिरापुरम स्थित घर पहुंची थी। लेकिन इस दौरान उत्तर प्रदेश के नोएडा जिले की पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया और बाद में जमानत पर रिहा कर दिया। 

अग्रवाल ने कहा,‘‘नोएडा पुलिस ने रोहित को जमानत पर रिहा किया है, उन्हें रायपुर पुलिस को सूचित करना चाहिए था। क्योंकि पुलिस दल रोहित के संबंध में जानकारी लेने मंगलवार को सेक्टर-20 पुलिस थाने गया था। उन्होंने हमें उसके बारे में कुछ नहीं बताया और मंगलवार की देर शाम एक प्रेस नोट जारी कर कहा कि वह जमानत पर रिहा हैं।‘‘ भारतीय जनता पार्टी शासित उत्तर प्रदेश की गौतमबुद्ध नगर पुलिस द्वारा जारी बयान में कहा गया,‘‘आज दिनांक पांच जुलाई को थाना सेक्टर-20 में पंजीकृत मामले की विवेचना के क्रम में जी न्यूज के समाचार प्रस्तोता रोहित रंजन को पूछताछ के लिए उनके आवास न्यू स्कोटिस सोसाइटी, अहिंसा खंड, इंदिरापुरम से नोएडा लाया गया। पूछताछ के बाद साक्ष्यों के आधार पर उनकी गिरफ्तारी की गई। उनके ऊपर लगी धाराओं के जमानतीय अपराध होने के चलते उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया है। विवेचनात्मक कार्रवाई प्रचलित है।‘‘  
 

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान इस हफ्ते डॉक्टर गुरप्रीत कौर से करेंगे विवाह

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.