Saturday, Aug 13, 2022
-->
rahul gandhi talks with world leading health experts johan giesecke know 6 special points rkdsnt

राहुल गांधी ने की दुनिया के नामी हेल्थ विशेषज्ञों से बातचीत, जानिए 6 खास बिंदु

  • Updated on 5/27/2020

नई दिल्ली/ब्यूरो। दुनिया के जाने माने स्वास्थ्य विशेषज्ञ आशीष झा और जोहान गिसेक का मानना है कि कोरोना वायरस फिलहाल अभी खत्म होने की उम्मीद नहीं है। इसकी वैक्सीन भी आने में अभी वक्त लगेगा। इसलिए इस वायरस के साथ ही जीवन को आगे बढ़ाना होगा। सावधानी के साथ लॉकडाउन खोलना होगा और आर्थिक गतिविधियों को गति देनी होगी। झा भारतीय मूल के अमरीकी लोक स्वास्थ्य विशेषज्ञ हैं और गिसेक स्वीडन के कोरोलिंस्का इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर एमिरेटस हैं।  कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और केरल के वायनाड़ से सांसद राहुल गांधी ने संवाद श्रृंखला की कड़ी में ही बुधवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए दुनिया के इन दो नामी स्वास्थ्य विशेषज्ञों से बातचीत की। 

लद्दाख सीमा पर चीन के तेवर को लेकर प्रशांत भूषण ने RSS चीफ भागवत पर किया कटाक्ष

लंबे समय तक रहने वाला है कोरोना
राहुल के सवालों का जवाब देते हुए झा ने कहा कि कोविड-19 की जांच और लॉकडाउन को लेकर भारत को रणनीति बनानी होगी, क्योंकि यह लंबे समय तक रहने वाला है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस का जितना आर्थिक और स्वास्थ्य संबंधी प्रभाव है, उससे कहीं ज्यादा मनोवैज्ञानिक असर है। सरकारों को इस ओर ध्यान देना होगा। हॉरवर्ड ग्लोबल हेल्थ इंस्टीट्यूट के निदेशक और हाल ही में नियुक्त हुए ब्राउन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के डीन आशीष झा ने कहा कि जब लॉकडाउन लागू किया जाता है तो लोगों के लिए यह संदेश होता है कि स्थिति बेहद गंभीर है। 

प्रवासी मजदूरों की मदद में जुटे बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने मांगी माफी

पहले लोगों में विश्वास जगाना होगा 
ऐसे में जब आर्थिक गतिविधियां शुरू करने के लिए लॉकडाउन हटाना है तो पहले लोगों में विश्वास जगाना होगा कि हालात स्थिर हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस अगले 18 महीने तक रहने वाली समस्या है। इसलिए इसकी टेस्टिंग ज्यादा से ज्यादा होनी चाहिए। राहुल ने पूछा कि भैया, यह बताइए कि वैक्सीन कब तक आएगी, इसके जवाब में झा ने कहा कि तीन देशों में उम्मीद है कि जल्द आएगी। लेकिन अगले साल तक ही इसकी संभावना है।

हिमाचल प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बिंदल ने हेल्थ घोटाले के बीच छोड़ा पद, कांग्रेस ने उठाए सवाल


सरकारों को रणनीति बनाने की जरूरत 
लॉकडाउन हटाने संबंधी राहुल के सवाल पर झा ने कहा कि सरकारों को रणनीति बनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि भारत के साथ अच्छी बात यह है कि ज्यादातर नौजवान आबादी है, जिसके लिए कोरोना वायरस ज्यादा घातक नहीं है। लेकिन कोई यह मान ले कि उसे कोरोना नहीं होगा, गलत होगा। युवाओं और खुले में काम करने वालों को सतर्क रहने की जरूरत है। न्यूयार्क का हवाला देते हुए झा ने कहा कि जो परिवार एक साथ रहते हैं, उन पर ज्यादा खतरा है। युवा बाहर जाते हैं और घर वापस आते हैं तो बुजुर्गों पर खतरा बढ़ जाता है। 

केजरीवाल #DilliKeHeroes की कहानियां सोशल मीडिया पर करेंगे शेयर, पहली स्टोरी...

केंद्र से राज्य को ताकत देने की जरूरत 
उन्होंने कहा कि कोरोना को एक जगह नहीं रोक सकते, ऐसे में केंद्र से राज्य को ताकत देने की जरूरत है ताकि जमीन पर लड़ाई लड़ी जा सके। उन्होंने कहा कि लोगों को अब समझने की जरूरत है कि जीवन बदलने वाला है। पहले जैसा कुछ भी नहीं रहने वाला। कोरोना के बाद दुनिया नई किताब होगी। वहीं स्वीडन के प्रोफेसर जोहान ने भी कोरोना वायरस की अगले कई महीनों तक मौजूदगी की संभावना जताई। उन्होंने कहा कि वैसे यह कोई गंभीर बीमारी नहीं है। 99 फीसद लोग इसमें ठीक हो जा रहे हैं। 

कन्हैया कुमार बोले- ‘नए भारत’ का नया ही खेल, मरते मज़दूर, भटकती रेल

लॉकडाउन में लचीलेपन की जरूरत 
राहुल के एक सवाल पर जोहान ने स्वीडन का हवाला देते हुए कहा कि हमने पहले देश को पूरी तरह से शटडाउन कर दिया, फिर धीरे-धीरे हटा दिया है। भारत में भी लॉकडाउन लंबे समय तक बना रहना अर्थव्यवस्था के लिए घातक होगा। लॉकडाउन में लचीलेपन की जरूरत है। गिसेक का मानना है कि लॉकडाउन को चरणबद्ध तरीके से खोला जाना चाहिए। कुछ पाबंदियां हटाई जाएं, लेकिन संक्रमण बढ़ता है तो फिर से कदम पीछे खींच लीजिए। उन्होंने कहा कि टेस्टिंग को लेकर रणनीति बनानी होगी। जिसमें जगह, उम्र के हिसाब से टेस्ट करने होंगे और बुजुर्गों-बीमारों का ख्याल रखना होगा।

महाराष्ट्र में राणे तो गुजरात में हार्दिक पटेल ने की राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.