Saturday, Jul 31, 2021
-->
rahul said that nationalism can never support cruelty violence and religious sectarianism sohsnt

राहुल गांधी बोले- भारतीय राष्ट्रवाद कभी भी क्रूरता, हिंसा और धार्मिक संप्रदायवाद का साथ नहीं दे सकता

  • Updated on 9/19/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर कर केंद्र की मोदी सरकार (Modi Govt) की नीतियों पर कई सवालिया निशान खड़े किए हैं। वे लबें समय से देश में कोरोना महामारी, बिगड़ती अर्थव्यवस्था, भारत-चीन सीमा विवाद और बढ़ती बेरोजगारी जैसे कई अन्य मुद्दों को लेकर केंद्र पर हमालवर रहे हैं। इसी क्रम में उन्होंने आज एक वीडियो शेयर कर लिखा, 'स्वराज और राष्ट्रवाद का सीधा संबंध अहिंसा से है। भारतीय राष्ट्रवाद कभी भी क्रूरता, हिंसा और धार्मिक संप्रदायवाद का साथ नहीं दे सकता।

राज्यसभा में कृषि विधेयकों पर फैसले के बाद NDA में रहने पर विचार करेगा SAD

वीडियो में कही गई है ये बात
राहुल गाधी ने ट्विटर पर 'धरोहर द लिगेसी' नाम की वीडियो सीरीज के 11 वें एपिसोड 'स्वराज और लोकमान्य जी' को शेयर किया है। वीडियो में बताया गया है कि कैसे 1906 के कांग्रेस अधिवेशन से शुरू हुई स्वराज की लहर 1916 आते-आते भारत में अपना प्रभाव जमा चुकी थी। इसके साथ ही वीडियो में बताया गया है कि कैसे लोकमान्य तिलक के होमरुल और कांग्रेस ने मिलकर स्वराज प्राप्त किया और आजादी हासिल की।

किसान विधेयकों पर हरसिमरत कौर बोलीं- मोदी सरकार ने नहीं सुनी मेरी आवाज

राहुल गांधी ने कृषि विधेयकों का किया विरोध
इससे पहले राहुल गांधी ने मोदी सरकार के कृषि विधेयकों का विरोध व्यक्त करते हुए ट्वीट कर लिखा, 'किसान का मोदी सरकार से विश्वास उठ चुका है क्यूंकि शुरू से मोदी जी की कथनी और करनी में फर्क रहा है- नोटबंदी, गलत GST और डीजल पर भारी टैक्स। जागृत किसान जानता है- कृषि विधेयक से मोदी सरकार बढ़ाएगी अपने ‘मित्रों’ का व्यापार और करेगी किसान की रोजी-रोटी पर वार।' 

कृषि विधेयक पर कांग्रेस बोली- डिप्टी CM पद से इस्तीफा दें दुष्यंत चौटाला, JJP ने दी सफाई

कृषि मंडी हटी, देश की खाद्य सुरक्षा मिटी- राहुल
राहुल गांधी मोदी सरकार की नीतियो के खिलाफ इन दिनों सख्त रुख अख्तियार किए हुए हैं। वे एक के बाद एक ट्वीट के माध्यम से लगातार केंद्र सरकार पर हमला बोलते आ रहे हैं, मालूम हो कि बाते 17 सितंबर को राहुल ने ट्वीट कर लिखा, 'मोदी जी ने किसानों की आय दुगनी करने का वादा किया था। लेकिन मोदी सरकार के ‘काले’ क़ानून किसान-खेतिहर मज़दूर का आर्थिक शोषण करने के लिए बनाए जा रहे हैं। ये 'ज़मींदारी' का नया रूप है और मोदी जी के कुछ ‘मित्र’ नए भारत के ‘ज़मींदार’ होंगे। कृषि मंडी हटी, देश की खाद्य सुरक्षा मिटी।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.