Friday, May 07, 2021
-->
rahul-went-to-nepal-to-visit-kailash-mansarovar

कैलाश मानसरोवर की यात्रा के नेपाल से रवाना हुए राहुल गांधी

  • Updated on 9/2/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तिब्बत में कैलाश मानसरोवर तीर्थयात्रा पर शुक्रवार को नेपाल की राजधानी पहुंच गए थे। नेपाली मीडिया के अनुसार, कांग्रेस प्रमुख दोपहर करीब दो बजे काठमांडू हवाईअड्डे पर उतरे और एक होटल में चले गए। हिमालयन टाइम्स की खबर के मुताबिक, वह शनिवार को नेपालगंज जाने से पहले काठमांडू में ही रुकेंगे। इसके बाद आज राहुल गांधी मानसरोवर यात्रा के लिए नेपाल से निकल गए हैं।

दिल्ली: 51 साल की उम्र में हुआ जैन मुनि तरुण सागर का निधन, दोपहर बाद होगा अंतिम संस्कार

वह कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए नेपाल के जरिए मानसरोवर जाएंगे। गांधी (48) उस दिन यहां पहुंचे जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चौथे बिम्सटेक सम्मेलन में भाग लेने के बाद स्वदेश लौटे हैं। कर्नाटक चुनावों के लिए प्रचार के दौरान जब गांधी हवाई यात्रा कर रहे थे तो उस समय उनका विमान आकाश में सहसा सैकड़ों फुट नीचे उतर आया था जिसके बाद अप्रैल में उन्होंने कैलाश मानसरोवर यात्रा करने की इच्छा जताई थी।

गौरतलब है कि 26 अप्रैल को दिल्ली से कर्नाटक के हुबली हवाईअड्डे की ओर जा रहे विमान में तकनीकी खराबी आ गई थी और वह बायीं ओर झुक गया था। इस विमान में गांधी तथा कुछ अन्य लोग सवार थे। विमान अचानक तेजी से नीचे उतर गया था हालांकि बाद में वह संभल गया और उसने सुरक्षित लैंङ्क्षडग की।

तीन दिन बाद 29 अप्रैल को गांधी ने एक रैली के दौरान घोषणा की कि वह मानसरोवर तीर्थयात्रा करना चाहते हैं। कैलाश पर्वत की यह दुर्गम तीर्थयात्रा हर साल जून और सितंबर के बीच आयोजित की जाती है। इसे हिंदू पुराण में भगवान शिव का निवास माना जाता है और यह तिब्बत के हिमालय में स्थित है। 

राहुल के विमान में आई गड़बड़ी के लिए पायलट जिम्मेदार

विमानन नियामक संस्था नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने इस साल अप्रैल में उत्तरी कर्नाटक के हुबली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के चार्टर्ड विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के कगार पर पहुंच जाने के लिए पायलटों को जिम्मेदार ठहराया है। 26 अप्रैल को गांधी को लेकर जा रहा दस सीटों वाला यह चार्टर्ड विमान उत्तरी कर्नाटक में हुबली हवाई अड्डे पर उतरने से पहले बायीं तरफ काफी नीचे झुक गया था और तेज कंपन के साथ वह काफी नीचे आ गया था।

दिल्ली में मौसम हुआ सुहाना , कई जगहों पर हो रही है जबरदस्त बारिश

डीजीसीए के अनुसार विमान में गांधी के अलावा चार अन्य यात्री, दो पायलट, एक केबिन सदस्य, एक इंजीनियर थे। इस विमान के साथ ‘जानबूझकर छेड़छाड़’ का आरोप लगाते हुए कांग्रेस पार्टी ने विमान के ‘संदिग्ध और त्रुटिपूर्ण प्रदर्शन’ की जांच की मांग की थी। आज सार्वजनिक हुई 30 पन्नों की अपनी रिपोर्ट में डीजीसीए की दो सदस्यीय समिति ने लिगारे एविएशन संचालित इस निजी फाल्कन 2000 जेट में पहले से कोई गड़बड़ी होने से इनकार किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.