Thursday, Apr 02, 2020
rain-in-india-unseasonal-rainfall-unseasonal-rains-unseasonal-rain-in-india

किसानों पर पड़ी मौसम की मार, फसल बर्बाद होने के बाद मुआवजे पर सवाल

  • Updated on 3/7/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली (Delhi), यूपी (UP), हरियाणा (Haryana), पंजाब (Punjab), राजस्थान (Rajasthan) समेत पूरे उत्तर भारत में बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि ने किसानों का हाल बेहाल कर दिया है। कई राज्यों में हजारों हेक्टयेर फसल बर्बाद हो गई है, खासकर गेहूं और सरसों की खड़ी फसल को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा है। 

दरसअल गेहूं के फसल कुछ दिनों में कटने शुरु हो जाता लेकर अब बेमौशम बारिश ने सब बर्बाद कर दिया। तेज हवाओं और ओलावृष्टि की वजह से खड़ी फसल लेट गई है किसानों का कहना है कि बेमौसम की बारिश ने किसानों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

अमेरिका भेजना है हिंदुस्तानी शहद, मैग्नेटिक जांच से तो गुजरना पड़ेगा

उत्तर प्रदेश
फसल बर्बाद होने के बाद किसानों ने सरकार से उचित मुआवजे की भी मांग की है। कृषि विशेषज्ञों की मानें तो हवा और बारिश से गेहूं की फसल को बीस फीसदी नुकसान होने का अनुमान लगाया जा रहा है। 

बता दें कि आंकड़े के अनुसार यूपी में एक से छह मार्च के बीच ओलावृष्टि से सात जिलों में 2,37,374 किसानों की 1,72,001.8 हेक्टेयर फसल प्रभावित हुई है। इनमें तीन जिलों सोनभद्र, जालौन व सीतापुर में 1819.32 हेक्टेयर क्षेत्रफल में 33 प्रतिशत से अधिक फसल क्षति की बात सामने आई है। 

UP: किसान जनजागरण अभियान की शुरुआत, प्रियंका ने कहा- देश का अन्नदाता हमारी प्राथमिकता

जनहानि, पशुहानि व मकान क्षति
बता दें कि मुरादाबाद जिले में बारिश के साथ ही चली हवा ने किसानों की गेहूं की फसल को अधिक नुकसान पहुंचाया है। मेरठ में भी तेज हवाओं के चलने से सरसों व गेहूं की फसल ढह गई। 

किसानों के फसल बर्बाद होने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के विभिन्न जिलों में बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से प्रभावित लोगों को तत्काल राहत पहुंचाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने जिलाधिकारियों से कहा है कि जनहानि, पशुहानि व मकान क्षति से प्रभावित व्यक्तियों को 24 घंटे के भीतर सहायता राशि उपलब्ध करा दी जाए।

PM ‘आशा योजना’ से किसानों में निराशा, सिर्फ 3 फीसद लक्ष्य हुआ पूरा

राजस्थान,पंजाब
वहीं राजस्थान में बारिश, तेज हवाओं और ओलावृष्टि से 33 फीसदी फसल बर्बाद हो गई है। आपदा प्रबंधन व राहत मंत्री भंवर लाल मेघवाल ने बताया कि नुकसान का सही आकलन अगले 10 से 15 दिनों में पूरा हो पाएगा। मंत्री ने यह भी बताया कि बिजली गिरने की वजह से दो महिलाओं की मौत हो गई। 

पंजाब में भी ओलावृष्टि से खड़ी फसल खेतों में बिछ गई। अधिकांश इलाकों में बारिश से गेहूं की फसल को भारी नुकसान पहुंचा। वहीं एक मकान की छत गिरने से एक परिवार के चार लोगों की मौत हो गई।

RECEP समझौते के खिलाफ आज देशभर के किसान संगठन करेंगे प्रर्दशन

हरियाणा
हरियाणा की बात करें पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय रहने से यहां के सात जिलों में लगातार तीसरे दिन शुक्रवार को ताबड़तोड़ बारिश और ओलावृष्टि से लाखों हेक्टेयर में लगी सरसों, गेहूं और सब्जी की फसलों को 50 से 80 फीसदी तक नुकसान होने की आशंका है। 

उत्तराखंड
उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में शुक्रवार को पूरे दिन मौसम का मिजाज बिगड़ा रहा। चारों धामों समेत औली, हेमकुंड साहिब व ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी और निचले इलाकों में बारिश से जनजीवन प्रभावित हुआ। जिसके चलते कई लोग फंसे रहें।

comments

.
.
.
.
.