Saturday, May 08, 2021
-->
rajasthan abhishek singhvi said governor is working advice of the cabinet pragnt

राजस्थान सियासी संग्राम पर बोले सिंघवी, राज्यपाल कर रहे मंत्रिमंडल की सलाह पर काम

  • Updated on 7/26/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस (Congress) ने राजस्थान (Rajasthan) के राज्यपाल पर राज्य विधानसभा का सत्र बुलाने संबंधी अशोक गहलोत सरकार की मांग पर सतही और प्रेरित सवाल उठाकर लोकतंत्र को बाधित करने का सबसे खराब तरीका अपनाने का आरोप लगाया।

अजय माकन का हमला, कहा- कोरोना और चीन से लड़ने की बजाय कांग्रेस की सरकारें गिराने में व्यस्त PM

राज्यपाल पर लगाए ये आरोप
कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक सिंघवी ने कहा कि उनकी पार्टी राज्य विधानसभा में बहुमत साबित करना चाहती है लेकिन राज्यपाल कथित तौर पर केन्द्र सरकार के इशारे पर सदन का सत्र बुलाने और विश्वास मत में देरी कर रहे हैं। उन्होंने विधानसभा सत्र बुलाये जाने के संबंध में उच्चतम न्यायालय के फैसलों और कई उदाहरणों का हवाला देते हुए कहा कि राज्यपाल अपनी मर्जी से काम नहीं कर सकते हैं और केवल मंत्रिमंडल की सलाह से ऐसा कर सकते हैं।

हरीश रावत बोले- विपक्ष को नष्ट करने पर तुली है मोदी सरकार 

सिंघवी ने  आगे कहा कि इस तरह के दुर्भावना से प्रेरित सतही और असंगत सवाल इस बात को बिना किसी संदेह के स्थापित करते हैं कि ये केन्द्र सरकार के सर्वोच्च अधिकारियों से आ रहे है और राजभवन, जयपुर से बिना किसी परिवर्तन के अपने ‘मास्टर’ की आवाज को दोहराया जा रहा है।

राहुल गांधी का मोदी सरकार पर निशाना जारी, Tweet कर लोगों से की यह अपील...

ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में कहा ये
सिंघवी ने ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हम सभी जानते हैं कि मास्टर कौन है। लेकिन, यह राज्यपाल की संवैधानिक स्थिति की गरिमा को कम करता है। राज्यपाल कलराज मिश्र ने शुक्रवार को राज्य सरकार से छह बिंदुओं पर स्पष्टीकरण मांगा था। जब उनसे पूछा गया कि क्या पार्टी राजस्थान उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देगी तो सिंघवी ने कहा कि लड़ाई अदालत कक्ष में नहीं बल्कि राज्य विधानसभा में है, जहां होने वाला शक्ति परीक्षण यह निर्धारित करेगा कि किसके पास संख्या बल है।

ममता की पार्टी ने शुरू किया भाजपा के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभियान

पीएम मोदी पर साधा निशाना
प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए सिंघवी ने पूछा कि देश के सर्वोच्च कार्यकारी पद पर आसीन वो लोग, जिन्होंने दूसरों के लिए ‘मौनी बाबा ’जैसे उपहासों का आविष्कार किया, क्या वह राज्यपाल जैसे संवैधानिक प्राधिकारियों को अपना राजधर्म निभाने की याद दिलाने में अपनी चुप्पी का आत्ममंथन नहीं कर रहे हैं। या उनकी मुखरता सिर्फ जुमलों के लिए है?

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.