Tuesday, Apr 13, 2021
-->
rajasthan action on sachin pilot complaints removed avinash pandey ajay maken grew rkdsnt

पायलट की शिकायतों पर शुरू हुई कार्रवाई, हटाए गए पांडेय, माकन का बढ़ा कद

  • Updated on 8/16/2020

नई दिल्ली/ब्यूरो। राजस्थान में सियासी घमासान थमने और अशोक गहलोत सरकार को विश्वासमत मिल जाने के बाद कांग्रेस ने पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट की शिकायतों पर कार्रवाई तेज कर दी है। पायलट और उनके समर्थक विधायकों की शिकायतों की सुनवाई के लिए रविवार को पार्टी ने जहां अहमद पटेल के नेतृत्व में तीन सदस्यीय कमेटी की घोषणा कर दी वहीं राजस्थान के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडेय को भी हटा दिया। उनकी जगह अजय माकन राजस्थान के प्रभारी महासचिव बनाए गए हैं।

डॉक्टर कफील की रासुका तामील अवधि फिर बढ़ी, परिवार हैरान-परेशान


पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट और उनके समर्थक 18 विधायकों की बगावत के चलते 36 दिनों तक राजस्थान की सियासत गरमाई रही। कांग्रेस को काफी मशक्कत करनी पड़ी नाराज विधायकों को वापस लाने और मनाने में। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी को इस मामले में सीधे दखल देना पड़ा और किसी तरह सचिन पायलट को मना कर फिर से हालात पटरी पर लाना पड़ा।

प्रशांत भूषण मामला : जजों, वकीलों ने बार और पीठ के बीच सौहार्दपूर्ण रिश्तों की वकालत की

लेकिन इस दौरान पायलट और उनके समर्थक विधायकों ने जो शिकायतें की, उसे लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तीन सदस्यीय कमेटी बनाने को कहा था, जो शिकायतों का निस्तारण करेगी। रविवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के नेतृत्व में यह कमेटी घोषित कर दी गई, जिसमें महासचिव संगठन के.सी. वेणुगोपाल और राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी महासचिव सदस्य बनाए गए हैं।

एसएम कृष्णा बोले- राजनीतिक भ्रष्टाचार की जड़ चुनावी भ्रष्टाचार में, बैन हो कॉरपोरेट चंदा 

हटाए गए अविनाश पांडेय
सचिन पायलट की नाराजगी का सबसे अहम कारण अविनाश पांडेय को माना गया। सूत्रों के मुताबिक पायलट ने पार्टी हाईकमान से बातचीत में सबसे ज्यादा नाराजगी पांडेय को लेकर जताई। उन 36 दिनों में पांडेय के बयान भी पायलट को उकसाने वाले ही रहे। इससे बात और बिगड़ती चली गई। सूत्र बता रहे हैं कि पायलट ने पांडेय पर गुटबाजी बढ़ाने तक के आरोप लगाए थे। फिलवक्त पार्टी हाईकमान ने रविवार को अविनाश पांडेय को राजस्थान प्रभारी पद से हटा दिया।

अजय माकन कद बढ़ा
राजस्थान के सियासी संकट के दौरान पर्यवेक्षक बना कर भेजे गए अजय माकन को इस संकट का बड़ा फायदा मिला है। माना जा रहा है कि गहलोत सरकार को बचाने में माकन ने अहम भूमिका निभाई। हाईकमान ने इसके ईनाम के तौर पर माकन को पार्टी महासचिव का पद देने के साथ ही अब राजस्थान का प्रभारी बना दिया है। जबकि दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद माकन अब तक खाली थे।

यूपी में AAP के दफ्तर पर लगा ताला, पार्टी ने साधा योगी सरकार पर निशाना

सचिन पायलट दिल्ली में
राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट बीती रात से दिल्ली में हैं। सूत्र बता रहे हैं कि वे अगले दो दिनों तक यहां पार्टी के शीर्ष नेताओं से मुलाकात करेंगे। इस दौरान उन्होंने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से भी मिलने का वक्त मांगा है। पायलट की दिल्ली में मौजूदगी और नेताओं से भेंट-मुलाकात शुरू होते ही हाईकमान ने उनसे किए वादे को निभाते हुए कार्रवाई शुरू कर दी है। उनकी शिकायतों की सुनवाई के लिए कमेटी बनाने के साथ ही प्रभारी महासचिव भी बदल दिया है।

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

प्रशांत भूषण केस में SC का फैसला संवैधानिक लोकतंत्र को कमजोर करने वाला : येचुरी

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.